raj sharma stories मस्त घोड़ियाँ compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit pddspb.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: raj sharma stories मस्त घोड़ियाँ

Unread post by rajaarkey » 12 Nov 2014 03:28

MAST GHODIYAN--5

gataank se aage........................

sangita- khadi hokar abhi pahan kar aati hu papa aur sangita andar chali jati hai,

manohar- apni aankho se apni bahu ki gudaj jawani ka ras pite huye, aao beti mere pas aao jara dekhu tumhara

jeans ka kapda to bahut achcha hai aur jab sandhya papa ke pas jati hai to manohar sidhe sandhya ki moti gand

ko apne hantho se sahlate huye mast ho jata hai

manohar- sandhya ke chutado ko daboch kar sahlate huye beti pahle se tumhara sharir kaphi phail gaya hai ab

to tum bilkul mummy ki tarah najar aane lagi ho

sandhya- apne sasur ka hath pakad kar apne pet par rakhte huye, papa yaha chhu

kar dekhiye abhi mera pet to

mummy jaisa jyada utha hua nahi hai na

manohar- apni bahu ke gudaj pet ko uski tshirt upar karke sahlata hua use khinch kar apni god mai betha leta

hai aur uske gudaj pet ko sahlata hua uske galo ko chum kar apne dure hath se uski jangho ko thoda khol kar

halke se jeans ke upar se uski chut par hath rakh kar sahlate huye, beti jab tumhare pet mai bachcha aa jayega

na aur tum use jab peda kar logi tab tumhara pet bhi mummy jaisa uth jayega tab dekhna tum puri tarah khil

jaogi,

tabhi sangita ek tite jeans aur tshirt pahan kar bahar aa jati hai aur manohar apni beti ki kasi jawani

gudaj janghe dekh kar ek dam se sandhya ki chut ko apne hath se daba deta hai

sangita- muskurate huye pichhe ghum kar ab dekho papa mai jyada moti hu ya bhabhi

manohar - apne land ko masalte huye sandhya tum bhi samne jakar khadi ho jao tab mai dekhta hu ki tum dono

mai kiska figur jeans mai jyada mast lagta hai sandhya aur sangita dono apne papa ko apni moti gand dikhate

huye khadi ho jati hai aur manohar do-do jawan ghodiyo ko apni aur chutad utha kar matkate dekh mast ho jata

hai aur uth kar dono ke bhari chutado ko sahlate huye beti tum dono ke chutad kaphi bade hai par sandhya

thoda kheli khai hai to uske chutad jyada phaile huye lag rahe hai,

sangita apne papa ke sine par hath marte huye, matlab papa hamara figur aapko achcha nahi laga

manohar- nahi beti tumhare chutad bahut sundar hai par thoda aur phail jayege to aur phir mast lagege

sandhya- apne sasur ki aur dekh kar papa aap sangita ke chutado ko paila dijiye na yah to kab se mari ja rahi

hai, manohar apni beti aur bahu dono ke bhari chutado ko apne hath se dabate huye, beti chutad to tum dono

ke phailane layak hai hum to tum dono ke chutado ko phailayege kyo ki hamari najar mai hamari bahu aur beti

ek saman hai aur hum dono ko barabar pyar karege aur phir manohar dono randiyo ko apni banho mai bhar kar

chipka leta hai

manohar- tum dono ka figur hum bahut mast kar dege par tum dono ne hame vah naye kapde pahan kar nahi

dikhaye jo kal tumhari mummy lekar aai hai,

sangita- papa vo to hamare liye penty aur bra lekar aai hai

manohar- ha mai unhi ki bat kar raha hu

sangita- sharmate huye par papa mai vah penty aur bra pahan kar aapke samne kaise aau

manohar- apni beti ke galo par apni jeebh pherte huye, are beti tu to meri beti hai aur tujhe to maine nangi apni

god mai khilaya hai phir tu apne papa ke samne penty pahan kar nahi aa sakti kya

sangita- achcha thik hai mai to pahan kar aa sakti hu par bhabhi to aapki bahu hai na vah kaise aapke samne

aayegi,

manohar- are kyo nahi aa sakti mai bhi to uske bap jaisa hu aur phir tum hi batao sandhya kya tumne kabhi

apne papa manoj ke samne penty nahi pahni kya

sandhya- sangita papa thik kah rahe hai mujhe apne papa ke samne penty pahanne mai koi pareshani nahi hai

par papa abhi ghar ka sara kam pada hai dekho yaha jhadu pochha bhi karna hai nahi to mummy aate hi chillane

lagegi,

manohar-achcha ek kam karo pahle jao vah nai wali bra aur penty pahan kar aao phir mai batata hu kya karna

hai aur phir dono randiya room mai jakar bra aur penty pahan kar aa jati hai, manohar apni beti aur bahut ki

nangi gudaj jawani ko bra aur penty mai dekhta hai to uske land se pani ki bunde bahar aane lagti hai vah,

sandhya jaha red color ki bra aur penty pahne thi sangita vahi pink color ki bra aur penty pahan kar apne papa

ke samne khadi thi,

manohar dono mastani londiyo ko apne pas bulata hai aur dono randiya uske badan se lipat

jati hai manohar un dono ke chutado par uski penty ke upar se sahlata hai aur uske bad un dono ko pyar se

chumta hua, beti sangita tu ek kam kar yaha jhadu mar de aur sandhya tu pocha laga le tab tak mai beth kar

paper padh leta hu uske bad bhi agar tumharai mummy nahi aai to mai tum dono ko apna figur banane ke liye

madad karta hu,


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: raj sharma stories मस्त घोड़ियाँ

Unread post by rajaarkey » 12 Nov 2014 03:28

manohar sofe par aaram se beth gaya aur apni lungi se apne tane huye land ko bahar nikal liya uske mote land

par sandhya ki jaise hi najar padi vah vahi beth kar farsh par pocha lagate huye apne sasur ka land dekhne lagi

aaj usne papa ka land bahut karib se dekha tha aur uski chut puri phul gai thi, sandhya ka muh apne sasur ki

taraf tha aur uske masal mote-mote doodh uski bra se aadhe se jyada bahar nikle huye the uski penty uski phuli

hui chut ki fanko mai fasi hui thi aur manohar apne land ko apni dono jangho ke beech dabata hua apni bahut ki

phuli chut ko uski painty mai kasi dekh rahe the

tabhi sandhya ne dusri aur muh karke pocha lagana shuru kar

diya aur manohar apni bahut ke bhari chutado ko dekh kar mast ho gaya tabhi sandhya vaha se thoda uthi aur

uski penty uski gori aur mast gand ki darar mai fas gai aur jab sandhya chalne lagi to uski gand bade mast andaj

mai thirak rahi thi, tabhi sandhya ne ek dam se apni gand khujlate huye phir se pocha karne beth gai aur

manohar ka land apni bahut ke mastane chutado ko dekh kar pagal ho gaya,

dusri aur sangita jhuki hui apni gand apne bap ki aur karke jhadu mar rahi thi aur manohar apni beti ki masal

bhari hui gand aur kasi hui chuchiya jo bra se chhalak rahi thi ko dekh kar mast ho raha tha, manohar ne gaur

kiya ki uski bahu ka pet rohit ka land lene se thoda utha hua najar aa raha tha jabki uski beti sangita ka pet abhi

thoda hi ubhra tha, vahi sangita ke chutad bahar ki taraf uthe huye khub kase najar aa rahe the aur sandhya ki

gand thoda chaudi najar aa rahi thi, manohar do-do randiyo ki nangi gand dekh kar apne aape se bahar ho raha

tha,

sandhya aur sangita dono mand-mand muskurate huye ek dusre ko dekh rahi thi aur kuch jyada hi apni

gand matka -matka kar kam kar rahi thi,

tabhi sangita jhadu marte-marte apne papa ke sofe ke pas pahuch kar niche beth jati hai aur manohar apni beti

ke mast bade-bade rasile doodh ko bra mai kas dekh kar mast ho jata hai

sangita- papa per upar karo jara sofe ke niche jhadu mar du aur phir manohar ne jaise hi per upar uthaye

sangita ko apne papa ka mota land najar aa gaya jo puri tarah tana hua tha aur uske niche uske papa ke mast

gote jhul rahe the sangita ne ek hath se sofe ke niche jhadu marte huye dusre hath se apne papa ke mast goto

ko pakad kar unke land ke tope par apna muh jhuka diya aur apne papa ka land muh mai bhar kar chuste huye

jhadu dene lagi,

apne papa ka land ka mast topa chus kar sangita mast ho rahi thi tabhi sandhya ne use dekh

liya aur apni moti gand matkate huye unki aur aane lagi, manohar ne samne dekha to vah mast ho gaya uski

bahu uski aur mastane andaj mai chal kar aa rahi thi aur uski chut uski penty ke andar bahut phuli hui najar aa

rahi thi,

sandhya- ne sangita ko uthate huye chalo nanad rani agar tumne jhadu mar di ho to mai bhi sofe ke niche pocha

laga deti hu aur phir sangita vaha se khadi ho gai aur sandhya niche beth kar apne sasur ke land ko apne muh

mai bhar leti hai aur jab apne gile hantho se manohar ke gote sahlati hai to manohar mast hokar sandhya ki

moti chuchiyo ko kas kar masal deta hai,

tabhi sangita niche beth kar apne papa ke goto ko chusne lagti hai aur sandhya apne sasur ke land ke tope ko

chusne lagti hai aur manohar dono randiyo ke ek-ek doodh ko kas kar apne hantho se dabata rahta hai use apni

beti aur bahu ke doodh ko ek sath masalne mai bada maza aa raha tha, udhar sangita aur sandhya apne papa ki

ek-ek gotiyo ko apne hantho se sahlate huye unke land ke phule huye supade ko apni jeebh nikal kar ek sath

chatne lagti hai aur beech-beech mai unki jeebh ek dusre se jab takrati hai to dono ek dusre ki jeebh ko chusne

lagti hai,

dono ghodiya ukdu bethi thi aur apne papa ka land chat rahi thi aur jaise hi unki jeebh apas mai takrai

dono ne ek dusre ki jeebh chuste huye ek dusre ki chut mai hath dal kar penty ke upar se ek dusre ki chut

sahlane lagi,

sangita- oh papa kya mast land hai aapka, kitna mota hai bilkul dande ki tarah tana hua hai,

sandhya- papa aapki bahu jyada achcha chus rahi hai ya beti

manohar- tum dono ki rasili jeebh bahut mast hai par test kiska kaisa hai yah to mujhe tumhari jeebh chusne

par hi pata chalega, tabhi dono randiya khadi hokar apne papa ke aas pas beth jati hai aur ek sath dono apni

jeebh nikal kar apne papa ko pilane lagti hai, manohar un dono ki harkato se pagal ho jata hai aur dono ki jeebh

apne muh mai bhar kar paglo ki tarah chumne lagta hai,

sandhya-papa aapko kaisa laga hamari jeebh ka test

manohar- dono ke mote-mote doodh ko unki bra ke upar se kas kar masalta hua, meri betiyo bahut rasili ho tum

dono aur tumhari jeebh bhi bahut rasili hai

sandhya-sangita ko dekh kar muskurate huye papa abhi aapne mera aur apni beti sangita ka asli ras to piya hi

nahi hai,

jab aapki dono betiya ek sath aapko apna ras pilayegi tab aap kahege ki wakai meri dono betiya badi

rasili hai,

manohar- sangita ke hontho ko chum kar sandhya ki aur dekhta hai aur uske gore galo ko khichte huye, to phir

beti der kis bat ki hai,

sandhya- papa abhi mummy sabjiya lene gai hai aur vah aati hi hogi aur vaise bhi sangita chahti hai ki jab aap

apni dono betiyo ka ras ek sath piye tab samay ki koi pabandi na ho isliye abhi ka samay thik nahi hai

manohar- par beti tab tak mai kaise rah paunga,

tabhi bahar se koi door bell bajata hai aur sangita aur sandhya dono daud kar apne room ki aur bhag jati hai aur

manohar un dono ko penty mai daudta dekh kar unki gudaj gand ka deewana ho jata hai aur uth kar gate kholne

chal deta hai,

rat ko 10 baj rahe the aur sandhya aur rohit ek dusre ke hontho ko kiss kar rahe the aur sandhya apni jeebh bar-bar rohit ko dikhati aur rohit lapak kar sandhya ki jeebh pine ki koshish karta,

rohit- janeman tum bahut tadpati ho

sandhya- rohit ka land masalte huye, par tadpane ke bad sukh bhi to bahut deti hu na, ab aaj hi dekh lo kaisa maza dilwaya maine tumhe jab sangita ko tumse chudwa diya,

kramashah......................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: raj sharma stories मस्त घोड़ियाँ

Unread post by rajaarkey » 06 Dec 2014 12:49

मस्त घोड़ियाँ--6

गतान्क से आगे........................

रोहित- संध्या के होंठो को चूम कर हाँ वो तो है डार्लिंग पर अब आगे का क्या प्लान है,

संध्या- खिड़की से बाहर बैठक की ओर धीरे से देखती है और उसे मम्मी और पापा बैठे हुए दिखाई देते है जो बिल्कुल करीब बैठ कर कॉफी की चुस्किया ले रहे थे,

संध्या- लगता है संगीता अपने रूम मे है, इनका रूम कुछ ऐसा था कि संगीता के रूम से ही उसके मम्मी-पापा का रूम सटा हुआ था और उसके मम्मी-पापा के रूम के पास मे बुआ का कमरा था, संध्या के रूम से पूरे बैठक का नज़ारा और मम्मी पापा और बुआ के रूम के अंदर आने जाने वाला साफ नज़र आता था लेकिन संगीता का रूम थोड़ा साइड मे था,

संध्या- रोहित अभी थोड़ा वेट करना पड़ेगा मम्मी पापा सामने ही बैठे है जब वह अपने रूम मे चले जाएगे तब हम दोनो संगीता के रूम मे चलेगे,

रोहित- ठीक है

संध्या- रोहित एक बात कहु

रोहित- हाँ बोलो जानेमन क्या बात है

संध्या- केवल एक दिन के लिए मुझे अपने मम्मी पापा के पास घुमाने ले चलो ना मैं बहुत दिनो से उनसे नही मिली हू मुझे बहुत याद आ रही है,

रोहित- वो तो ठीक है लेकिन तुम मुझे क्यो ले जा रही हो, तुम अकेली भी तो जा सकती हो

संध्या- अरे वो बात नही है, बल्कि मम्मी का कल फोन आया था और वह खुद कह रही थी कि दामाद जी को साथ लेती आना बहुत दिनो से उनसे मिली नही हू, अब क्या है ना रोहित मेरा कोई भाई भी नही है इसलिए उनका भी दिल मिलने के लिए करता होगा,

रोहित- यार वो तो ठीक है पर तुम वहाँ जाकर अपनी मम्मी के साथ रम जाओगी और मुझे तुम्हारे पापा को बेकार मे झेलना पड़ेगा मैं तो बोर हो जाउन्गा,

संध्या- अरे नही रोहित तुमने कभी उनसे खुल कर बात नही की इसलिए तुम्हे ऐसा लगता है, जबकि तुम्हे पता नही है, मेरे मम्मी और पापा दोनो बहुत अड्वान्स है, और पापा तो ठीक ही है वह तो पीने के बाद शुरू होते है पर मम्मी से तुम ज़्यादा खुल कर बात करोगे तो उनकी बाते सुन कर हैरान रह जाओगे, तुम नही जानते मैं तो अपनी मम्मी से सभी बाते शेर कर लेती हू,

रोहित- मुस्कुराते हुए और अपने पापा मनोज से

संध्या- मेरे पापा तो मेरी जान है मैं उनसे बहुत प्यार करती हू पर सबसे उन्होने तुम्हारे जैसा पति मुझे दिया है तब से मैं उनसे और भी प्यार करने लगी हू,

रोहित- और तुम्हारी मम्मी गीता उनसे प्यार नही करती

संध्या- मेरी मम्मी तो मेरी सहेली है, वह तो मेरी हमराज़ है और तुम नही जानते वह तुम्हे भी बहुत चाहती है, जब तुम उनसे खुल कर बात करोगे तब तुम्हे पता चलेगा कि वह कितने मस्त लोग है,

रोहित- खेर जिसकी बीबी इतनी मस्त हो उसके मम्मी पापा तो मस्त होंगे ही, ठीक है हम कल या परसो तुम्हारे घर भी चलते है ओके

संध्या- उसका गाल चूमते हुए ओके और फिर संध्या जब बाहर झाँक कर देखती है तो उसे सोफे पर कोई दिखाई नही देता है और वह रोहित का हाथ पकड़ कर उसके साथ संगीता के रूम मे पहुच जाती है,

संगीता जैसे ही दोनो को अपने रूम मे देखती है मुस्कुरा देती है

संध्या- क्या बात है ननद रानी हमारा ही इंतजार था क्या

संगीता- भाभी मैं तो कब से आप दोनो का इंतजार कर रही थी

संध्या-अच्छा सुन तेरे भैया तुझे पूरी नंगी देखना चाहते है चल जल्दी से अपने सारे कपड़े उतार दे

संगीता- मुस्कुराते हुए अपने भैया की ओर देखती है और रोहित संगीता को अपने सीने से लगा कर उसके रसीले होंठो को चूस लेता है,

संध्या- संगीता की स्कर्ट उपर करके उसकी पेंटी नीचे सरका देती है और रोहित को कहती है

संध्या- देखो रोहित संगीता के चूतड़ कितने मोटे हो गये है,

संगीता- हस्ते हुए भाभी आपसे से तो छ्होटे ही है,

रोहित- संगीता ज़रा अपने चूतड़ पूरे नंगे करके मुझे दिखा ना और फिर संगीता वही अपनी स्कर्ट और पेंटी पूरी उतार कर अपने भारी चुतडो को अपने भैया को दिखाने लगती है,

संध्या- अरे पगली ऐसे नही पहले तू पलंग पर चढ़ कर खड़ी हो जा उसके बाद अपने हाथो से अपनी मोटी गंद फैला कर अपने भैया को दिखा ताकि वह आराम से तेरी गंद का छेद चाट सके,

संगीता अपनी भाभी को मुस्कुरकर देखती हुई पलंग पर चढ़ जाती है और जब अपने दोनो चुतडो के पाटो को फैला कर अपने भैया को दिखाती है तो रोहित अपनी जवान बहन के गोल मटोल चूतड़ उसकी गुदा और गुदा के नीचे पाव रोटी जैसी फूली गुलाबी चूत को देख कर सीधे अपना मूह अपनी बहन की गंद मे भर कर एक ज़ोर से चुम्मा ले लेता है और संगीता हाय भाभी करके रह जाती है,

संगीता- पलट कर भाभी तुम भी नंगी हो जाओ ना मुझे अकेले शरम आती है

संध्या- उसकी बात सुन कर अपने सारे कपड़े खोल कर एक दम से पूरी नंगी होकर संगीता से चिपक जाती है और रोहित दोनो रंडियो को चूमने और सहलाने लगता है,

संध्या- अरे पहले हम तुम्हारे मम्मी पापा के रूम मे झाँक कर तो देखे क्या चल रहा है

मनोहर- मंजू अब तुम जल्दी से नंगी होती हो कि नही

मंजू-मनोहर को धकेल कर हस्ते हुए नही होंगी जब तक तुम मुझे यह नही कहते कि तुम्हारा लंड अपनी बहन रुक्मणी की मस्त गंद को चोदने के लिए बार-बार खड़ा हो जाता है,

मनोहर-हस्ते हुए मंजू के दूध दबा कर मेरी रानी जब तुम सब जानती हो तो मेरे मूह से क्यो सुनना चाहती हो

मंजू- मुझे तुम्हारे मूह से सुनना है नही तो आज मैं इस तगड़े लंड को ऐसे ही अपने हाथो से दबोच-दबोच कर इसका सारा रस निचोड़ दूँगी,

मनोहर- अच्छा बाबा मैं खुद अपने मूह से कहता हू जाओ मेरी प्यारी बहन रुक्मणी को बुला लाओ आज मैं उसकी खूब तबीयत से गंद मारना चाहता हू और तुम अपने हाथो से अपने पति के लंड पर तेल लगा कर अपनी ननद की मोटी गंद मे डालना,

संगीता- हाय भाभी मम्मी और पापा तो आज बुआ की गंद लगता है तबीयत से मारेंगे, पापा का लंड कितना जोरो से तना हुआ है

रोहित- संगीता की गंद मे उंगली डाल कर मसल्ते हुए, मेरी रानी जब कोई भाई अपनी बहन की नंगी गंद को याद करता है ना तो ऐसे ही लंड पूरे ताव मे आ जाता है

संध्या- संगीता की चूत सहलाते हुए और मेरी ननद रानी जब कोई बेटी अपने बाप का ऐसा टॅना हुआ लंड देखती है तो उसकी चूत से ऐसे ही पानी बहने लगता है मुझे लगता है तुम्हारा दिल कर रहा होगा कि तुम अभी जाकर पापा के मोटे लंड पर अपनी चूत फैला कर बैठ जाओ,

संगीता- अरे भाभी मन तो आपका भी यही कर रहा है ना

तभी रोहित ने दोनो को चुप रहने का इशारा करते हुए सामने देखने को कहा उन दोनो जैसे ही सामने देखा दरवाजे से रुक्मणी अंदर आती है और रुक्मणी को देख कर मंजू कहती है

मंजू- लो आप तो यू ही मरे जा रहे थे अपनी बहन के लिए वो खुद ही हाजिर हो गई

रुक्मणी- क्या बात है भाभी क्या बाते चल रही है,

मंजू- अरे कुछ नही आ तू मेरे पास बैठ जा और फिर एक साइड मे रुक्मणी जाकर बैठ जाती है,

मनोहर का लंड अपनी लूँगी मे उठा हुआ था और रुक्मणी की नज़र अपने भैया के मस्त औजार पर टिकी हुई थी, मंजू यह बात भली भाती जानती थी उसे बस शुरू करने की देरी थी,

मंजू- अरे रुक्मणी तेरे भैया नाराज़ है कहते है तुम मेरी बात नही मनती हो

रुक्मणी- पर आपने भैया की कोन सी बात नही मानी

मनु- अरे वही तो , ये मुझसे कह रहे है कि जो पेंटी तुम खरीद कर लाई हो उसे एक बार रुक्मणी को पहना कर दिखाओ,

रुक्मणी- का चेहरा लाल हो चुका था और उसने कहा भाभी क्यो आप मज़ाक करती हो

मनोहर- खड़ा होकर नही रुक्मणी, मंजू ठीक कह रही है, मैं देखना चाहता हू वह पेंटी तुम पर कैसे फिट बैठती है, जाओ और अभी उस पेंटी को पहन कर आओ, तुम जानती हो ना बचपन मे भी जब तुम हमारा कहना नही मानती थी तो हम तुम्हे क्या सज़ा देते थे,

रुक्मणी- भैया ऐसी सज़ा ना देना तुम बहुत ज़ोर से मारने लगते हो,

मंजू - हाँ मैं भी जानती हू तेरे भैया तुझे बेड पर उल्टा लेटा कर तेरे चूतादो पर थप्पड़ मार -मार कर लाल कर देते है, अब बोलो तुम्हे अपने इन भारी भरकम चूतादो पर अपने भैया के थप्पड़ थाने है या ब्रा और पेंटी पहन कर यहाँ आना है,

रुक्मणी- शरमाते हुए, भैया वह ब्रा और पेंटी तो मैने अभी पहन रखी है

मनोहर का लंड उसकी बात सुनकर झटका देने लगता है,

मनोहर- तो फिर अपने कपड़े उतार कर दिखाओ तुम कैसी लग रही हो

रुक्मणी अपने भैया की बात सुन कर अपनी भाभी की ओर देखने लगी तब मंजू ने मुस्कुराते हुए रुक्मणी के पिछे जाकर उसके ब्लौज की डोर को पिछे से खोल दिया, डोर के खुलते ही उसके तने हुए चुचो ने बड़ा सा आकर ले लिया और मस्त फैल गये, मंजू ने बुआ के दूध को अपने हाथो मे भर कर दबाते हुए कहा

मंजू - क्यो ननद रानी तुम तो कह रही थी कि तुमने ब्रा पहन रखी है तो फिर यह क्या है

रुक्मणी- शरमाते हुए भाभी ब्रा छ्होटी पड़ गई पेंटी तो मैं जबरन फसा कर आई हू मेरी मोटी गंद तो उसमे भी नही समा पा रही है और मेरी चूत की दोनो फांके एक-एक तरफ से बाहर निकली हुई है और पेंटी बीच मे फसि हुई है,

उसका इतना कहना था कि मंजू आगे आकर उसका नाडा खिच देती है और रुक्मणी सिवाय एक छ्होटी सी पेंटी पहने अपना मस्त हुस्न दिखला कर रोहित और उसके बाप दोनो के लंड को तडपा रही थी,

संध्या ऐसे क्षणो के लिए हमेशा तैयार रहती है और वह रोहित के लंड को पकड़ कर मसल्ने लगती है रोहित भी अपने आगे संगीता को करके उसके मोटे-मोटे बोबो को कस-कस कर मसल्ने लगता है, कभी-कभी रोहित अपनी बहन संध्या की ठोस चुचियो को इस कदर कस कर दबा देता है कि संगीता की चूत से पानी बहने लगता है,

उधर जब रोहित इन दोनो रंडियो से अपना ध्यान हटा कर जब सामने देखता है तब संध्या और संगीता दोनो रोहित से कस कर चिपक जाती है, सामने मंजू नई ब्रा और पॅंटी मे खड़ी थी उसकी गुदाज जंघे भारी चूतड़ देख कर रोहित का लंड झटके मारने लगा, रोहित देख रहा था कि कैसे उसकी मम्मी की पॅंटी का वह भाग फूला हुआ था जहाँ चूत होती है, संध्या ने रोहित का लंड पकड़ लिया और उसको सहलाते हुए कहने लगी, रोहित क्या दिल कर रहा है, क्या मम्मी अच्छी लग रही है,

रोहित- मेरी रानी देखो तो सही मेरी मम्मी का फिगुर कितना मस्त है इतनी उमर मे भी उनकी गंद और उनकी मोटी जाँघो का भराव देखो, इतनी मस्त होगी किसी की मम्मी,

संध्या- रोहित के कान मे अपना मूह लगा कर कहते हुए, मेरे राजा तुमसे ज़्यादा मस्त फिगुर तो मेरी मम्मी का है, तुमने अगर उसे नंगी देखा होता तो ऐसी बात नही करते,

रोहित- क्या सचमुच तुम्हारी मम्मी का जिस्म मेरी मम्मी के जिस्म से ज़्यादा मस्त है,

संध्या- मुस्कुराते हुए, नही तो क्या मैं मज़ाक कर रही हू,

संध्या रोहित के करीब आकर उसके गालो को चूमती हुई उसके लंड को कस कर दबा लेती है और उसके कान मे कहती है रोहित मेरी मम्मी को चोदोगे,

रोहित कस के संध्या के दूध को दबा कर उसके होंठो को चूम लेता है

रोहित का लंड संध्या की बाते और सामने का नज़ारा देख कर पूरी तरह गरम हो चुका था,

मनोहर- मंजू ज़रा रुक्मणी को पीछे तो घूमाओ मैं देखना चाहता हू कि इसकी पेंटी ने इसकी गंद पूरी धक रखी है या उसके चूतड़ बाहर ही नज़र आ रहे है

मम्मी ने झट से बुआ के नंगे उठे हुए पेट पर हाथ फेरते हुए अपने पति मनोहर की तरफ देखा और पुछा, क्यो जी अगर तुम्हारी मा भी रुक्मणी जैसी गदराई होती तो उसकी गंद भी तुम ऐसे ही मारने के लिए तड़प्ते,

पापा अपने लंड को मसल्ते हुए मम्मी की पेंटी मे फूली उनकी चूत को अपने हाथो मे भर कर मसल्ते हुए कहते है मेरी रानी अगर मेरी मा तेरे जैसी या रुक्मणी जैसी माल होती तो मैं उसको नंगी करके तबीयत से उसकी मस्त गंद मारता और तू भी ऐसी नंगी मत घुमा कर नही तो तेरा बेटा रोहित किसी दिन तेरी गंद मे अपना लंड ज़रूर गढ़ा देगा,

संगीता- क्या बात है भैया पापा तो आपके लिए अभी से मम्मी की गंद को सहला रहे है, मम्मी पर तो तुम्हारा खूब चढ़ने का मन हो रहा होगा ना,

संध्या- अरे ननद रानी मेरा रोहित तो अपनी मम्मी मंजू और अपनी बहन संगीता को एक साथ पूरी नंगी करके चोदने के फिराक मे है, और देखना जब रोहित मम्मी की मस्त गंद चोदेगा तब तेरी मम्मी मस्त घोड़ी की तरह अपनी गंद उठा-उठा कर मरवाएगी,

क्रमशः......................