गहरी चाल compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit pddspb.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: गहरी चाल

Unread post by rajaarkey » 06 Nov 2014 11:35

GEHRI CHAAL paart--23

Jagbir Thukral Sharon ki shirt me hath ghusa ke uski patli,komal kamar ko sehla raha tha.usne uski kamar ko dabate hue use khinch kar khud se sata liya.ab sharon thoda uski taraf ghum kar baithi thi,uski aankho me bete ke dekh lene ka darr jhalak raha tha.

thukral ne bahut halke se uske daaye gaal ko chum liya,sharm ki lali uske chehre pe fail gayi.thukral haule-2 uske chehre ko chum raha tha & dheere-2 vo bhi mast ho rahi thi.thukral ne uske surkh hotho ko apni ungliyo se chhua to vo sihar uthi,uske bhare-2 honth tharatharne lage.thukral ne usi waqt apne honth unpe rakh diye.

sharon thodi der ko sab kuchh bhul gayi & khud ko thukral ki baaho me dheela chhod diya & bas kiss ka maza lene lagi.thodi hi der me dono 1 dusre ko baaho me kase hue masti me chume ja rahe the.thukral ke dono hath uski shirt me ghuse uski makhmali pith & kamar pe ghum rahe the.

achanak thukral ne uski t-shirt ko upar utha diya,"haaa...!",sharon ne uska hath pakad liya.

"kya hua mummy?",uska beta mudne ko hua.

"kuchh nahi beta...1 keeda kapdo me ghus gaya tha,nikal diya.tum tv dekho.",usne thukral ka hath apni shirt se alag karne ki koshish ki to thukral ne uski na sunte hue shiart ko upar kar uske badan se alag kar diya.ab sharon ka halke neele rang ka bra nazar aa raha tha & uske gale me se jhankta uske dhadakte dil ki vajah se upar-neeche hota hua uska bada sa cleavage.

thukral ne 1 nazar uske ghabrahat bhare chehre pe dali & fir hath uski pith pe le jake uske bra ko khol diya.uske samne sharon ki badi,kasi hui gori chhatiyaan chamak uthi.usne bra ko kinare kiya & uski shirt vapas use pehna di,fir shirt ko uski gardan tak upar kar diya.

iske baad usne use fir apni baayi banh ke ghere me le liya & apne honth uske seene pe rakh diye,"..aahhh..!",sharon ne apni aah ko apne halak me hi dafn karna chaha magar fir bhi 1 halki se aavaz nikal hi gayi.usne bete ki or dekha,vo tv me magan tha.

uski kamar ko dabate hue thukral ne uski daayi baayi chhati ko apne daaye hath se pakad liya & daba diya.sharon ki halat kharab ho gayi.uska dil to kar raha tha ki sab kuchh bhul kar is pal ka lutf uthaye magar yaha ye mumkin nahi tha.thukral uske halke bhure nipple ko ungliyo se masal raha tha.

jaise hi nipple kada hua usne vaise hi choochi ko pakde hue apni jibh us pe chalani shuru kar di.sharon ke badan me to jaise bijli ka jhatka lag gaya.vo thukral ke sar ke baal bhinchti hui bechaini se apna badan hilane lagi.thukral ne nipple se khelne ke baad apne mun me uski baayi chhati bhar li & use chusne laga.

thodi der tak vo vaise hi uski kamar thame hue kabhi uski 1 to kabhi dusri chhati se khelta raha.sharon besabri si ho apni janghe ragad rahi thi.thukral ne apna baaye hath se uski kamar ko vaise hi jakde rakha & daaye ko samne se uski skirt me ghusa diya.jangho ke beech uska hath mehsus karte hi sharon ne apni janghe bheench kar uske hath ko daba liya.

thukral dheere-2 uski reshmi janghe sehlata hua aage badhne laga.chhatiyo ko chumte hue usne nazar neechi ki,jaise-2 uska hath aage badh raha tha,sharon ki skirt bhi upar ho rahi thi & uski gori bhari-2 janghe numaya ho rahi thi.aakhirkar thukral ka hath uski panty tak pahunch gaya,"...na..hi..please...yah nahi..",sharon ne uske sar ko apni baaho me bhar apne seene pe daba diya & uske kaan me phusphusai.

par thukral ne uski nahi suni.usne bijli ki tezi se sharon ki panty ko khinch kar uske pairo se nikal diya.halke neele rang ki panty pe 1 dhabba sa pada hua tha.ye sharon ki chut ke us pani ka dagh tha joki usne thukral ki harkato se mast hokar chhoda tha.thukral ne panty ko sungha & fir muskurate hue use kinare kar sharon ko chumne laga.

uska daaya hath 1 bar fir uski jangho ke beech ghus ke uski chut tak pahunch chuka tha.thukral ka dil to kar raha tha ki skirt nikal ke abhi is haseena ki chut ke deedar kare magar uske bete ki maujoodgi me aisa khatre se khali nahi tha,fir thodi hi der me vo uske pure nange jism ka deedar to karega hi.usne apne dil pe kaboo rakha & uski skirt se dhanki chut me apni ungli ghusa di.

sharon ki aahen dono ki kiss me kahi kho gayi.thukral baaye hath se use mazbooti se thame uske honth chumte hue apni ungli uski chut me andar-bahar kar raha tha.sharon ki chut badi kasi hui thi & usne thukral ki ungli ko jaise jakad sa liya tha.tabhi sharon ki chut ki deeware uski ungli pe aur kas gayi & uska badan jaise akad gaya.thukral samajh gaya ki vo jhad chuki hai.

usne apni ungli nikali & uske hontho ko azad kiya.sharon thak kar uske kandhe pe sar rakh ke baith gayi.thukral ne uski skirt & shirt ko thik kiya & uske sar ko sehlane laga,"malik,hum pahunch gaye.",Madho ne car rok di.

thodi hi der baad dono 1 flat ke bedroom me 1 dusre ki baaho me khade 1 dusre ko chum rahe the.bachcha dusre kamre me gehri nind so raha tha & ab dono befikr ho 1 dusre ke jismo ka lutf utha raha the.thukral ne apna suit utar diya tha & 1 dressing gown pehan liya tha,sharon abhi bhi apne usi libas me thi bas uski bra & panty vahi thukral ki car me pade hue the.vo apni baahe thukral ki gardan me dale uske baalo ko sehla rahi thi & thukral use chumte hue uski skirt utha raha tha.

usne apne hath uski mulayam jangho pe laga diye & sehlane laga.mast ho sharon thoda aage badh us se aur sat gayi.shirt ke kapde me se uske nukile nipples thukral ke seene me chubh rahe the.thukral ke hath thoda aur upar hue & uski chaudi magar pusht gand ko tham liya,"..uuunnn...!",use chumte hue sharon ne aah bhari to thukral uski gand ko haule-2 dabane laga.chhote kad ki sharon apna sar utha kar use chum rahi thi & thukral ka lund uske pet pe daba hua tha.thukral ne use chumte hue thoda aage ho lund ko uske jism se dabane ki koshish ki to vo ladkhada gayi & peechhe bistar pe gir gayi.

girte hi uski skirt uth gayi & thukral ne pehli baar uski chut ka deedar kiya.uski nazre to jaise vahi se chipak ke reh gayi.usne use thik se litaya & jhuk ke uski chut ko niharne laga.usne halke se 1 hath uske upar firaya to sharon ke badan me maze ki lehar daud gayi,"oohh...jagbir.."

thukral uski taango ke beech let gaya & uski chut ko ungli se kuredne laga.mast ho sharon apni kamar hilate hue uske sar ko pakad aahe bharne lagi.thodi der tak ungli se uski chut marne ke baad vo uske dane pe badi tezi se gol-2 ungli ghumane laga.sharon to bas pagal hi ho gayi.Tony ne use aise pyar karna chhod diya tha,vo to use bas 1 machine ki tarah istemal karne laga tha.jab uska dil karta uske upar chadh use chumta,dabata & fir uski chut ko thodi der chhedne ke baad,bina ye jane ki vo taiyyar hai ya nahi...use maza aa raha hai ya nahi-apna chhota-sa lund uski chut me ghusa kuchh dhakke laga kar jhad jata & fir so jata.

usne to ummeed hi chhod di thi ki fir kabhi uske jism ko aisi khushi milegi magar aaj ye insan use fir se jannat ki sair pe le ja raha tha,use thukral pe bahut pyar aaya.thukral ne dekha ki vo jhadne hi vali hai to apni ungli hata ke dane pe apni jibh laga di,"..aaaahhhhhhh....yyaaaa...hhhh...!",sharon ne apni jangho me uske sar ko bhinch liya & kamar uchkate hue zor-2 se aahe bharne lagi.uski chut pani pe pani chhode ja rahi thi.pata nahi kitni der tak thukral uski chut chaatata raha & na jane vo kitni baar jhadi.aakhiri baar jhadne ke baad us se aur nahi bardasht kiya gaya,usne thukral ka sar apni chut se hataya & karwat le kar let gayi.

thukral ne uski skirt nikal di & uski chaudi gand pe hath ferne laga.26 inch ki patli kamar pe 36 inch ki gand kuchh zyada hi chaudi lag rahi thi.thukral uski kasi hui fanko ko sehlane & chumne laga.thodi der baad sharon ne karwat li to thukral ne use shirt utarne ka ishara kiya.sharon ne fauran shirt utar di & takiye pe sar rakh ke let gayi.thukral ke samne ab vo puri nangi padi hui thi,jawab nahi tumhara sharon!kash tum mujhe pehle mili hoti...to mujhe itne dino tak yu tanha na rehna padta.",sharon muskurate hue uske chehre ko sehla rahi thi.

thukarl utha & usne apna gown khol diya,"..haa..!",sharon ne chaunk ke munh pe hath rakh diya.thukral bistar ke paas zamin pe nanga khada tha & uska 8 inch lumba & kuchh zyada hi mota lund pura tana khada tha.sharon ne aaj tak aisa tagda lund nahi dekha tha.thukral uske dil ki halat samajh gaya,vo bistar pe chadha & uske seene ke dono taraf ghutne rakh ke baith gaya,"zara ise pyar to karo,meri rani."

sharon ne lund ko hatho me pakda,uske chhote-2 hath uski puri motai ko apni mutthi me nahi le pa rahe the.uske dil me khayal aaya ki itna bada lund vo kaise andar legi & aaj to uski chut ki puri gehrayi ko ye rakshas naapega.is khayal ne uski chut me khalbali si macha di.usne lund ko hilate hue uske supade ko chum liya.thodi der tak vo lund ko halke-2 hatho se hilate hue bas uski lambai pe chumti rahi.jab usne jibh se lund & ando ke beech ki jagah pe jibh se chheda to thukral maze se kara h utha,"..aahhh...ab munh me lo ise meri jaan & chuso."

sharon ne uske hukm ki tameel ki magar lund itna mota & lumba tha ki uske munh me sama hi nahi raha tha.aadha lund munh me liye vo chuste hue uske supade pe apni jibh chalane lagi.thukral mast hokar apni kamar hilane laga,usne uske sar ko pakad liya & kamar hilakar uske munh ko chodne laga.sharon bhi uski mazbut janghe thame uske lund pe munh chala rahi thi.thukral ko yaad nahi tha ki aakhiri baar kab kisi ladki ne is garmjoshi,is masti ke sath uska lund chusa tha.uske liye khud pe kabu rakhna mushkil ho gaya to usne lund khicnh liya.sharon ne uski or shikayati nazro se dekha,"ab tumhe apna banane ka waqt aa gaya hai,meri jaan."

sharon ne apni tange faila di & thukral unke beech aa gaya.usne uske ghutno ke neeche apne hath rakh uski tango ko utha ke gili chut pe lund tika 1 dhakka diya,"..aaannnnhhhhh...!",lund 3 inch tak andar ghus gaya.thukral ne hath hata kar jhukte hue apni baahe uske ghuto ke neeche uski taango me fansa di & jhukne laga,"..aaaiiiiiyyyeeee.....aaaa...nnn...hh..!",sharon ke chehre pe jaise dard ki lakeere khinch gayi.thukral ki is harkat se uske ghutne uski chhatiyo ki bagal me aa gaye the & jhukne se lund chut me ghusta chala ja raha tha.

thukral uske upar ab let gaya tha,lund bas 1 inch hi bahar tha.sharon ki chut bilkul khul kar uske lund ko liye hue thi & uski janghe bilkul mud ke uski choochiyo ke bagal me thi & tange hawa me.thukral use pyar se chumne laga.jab lund andar ghus raha tha to sharon ko dard mehsus hone laga tha,uski chut ko aise bade lund ki aadat to thi nahi balki uske andar ka hissa to abhi bhi kunwara hi tha.thodi hi der baad use lund ki aadat pad gayi.thukral ne 1 aakhiri dhakka diya & is baar lund jad tak chut me sama gaya.uski jhante ab sharon ki chut ke bahar ke hisse pe gudgudi kar rahi thi.sharon ne bechain hokar thukral ke badan ko baaho me kas liya.

thukral thodi der tak to uske upar lete hue uski janghe mode,uski chhatiyo ko apne baalo bhare seene se peeste hue,uski chudai karta raha magar sharon ki chut ne use chaunka diya tha,10 saal ki shadi & 1 bachche ki maa hone ke bavjood kisi kunwari ladki ki tarah kasi hui thi uski chut.uske lund se to vo aise chipki thi jaise ki condom chipakta hai!thukral ab jald se jald us nazuk chut ko apne pani se bharna chata tha.usne apni baahe uski taango se alag ki to sharon ne jhat se unhe uski kamar pe laga diya.thukral apne hatho pe uchak sa gaya & gehre dhakke lagane laga.

sharon to jaise pagal ho gayi.vo sab bhul gayi-ki vo 1 bachche ki maa hai joki dusre kamre me so raha hai,uska 1 pati bhi hai..use bas ye yaad tha ki vo 1 aurat thi jiske jism ki pyas ko ye mard apne lund se bujha raha tha.use thukral pe bahut pyar aaya,jismo ke milan se aisi khushi milti hai,ye to usne kabhi scoha hi nahi tha.vo bechaini se uske seene ke baalo me hath ferte hue bahut tez aavaz me aahe bharti hui sar utha ke neeche uski chut me ghuste-nikalte lund ko dekh rahi thi.thukral bahut gehre &7 tez dhakke laga raha tha.

sharon ko aaj tak aisa ehsa nahi hua tha,uski chut me kuchh ajeeb sa mehsus ho raha tha...jaise bahut taklif ho magar bahut mazedar..uski kuchh samajh me nahi aa raha tha..vo bas sari zindaghi aise hi hawa me udte rehna chahti thi...vo ajeeb sa ehsas aur tez ho gaya...,"..hhhuuu...nnn...aannhhh....zo..r se...chodo...jag..biir...aur...zor...se...haa..ann..ais..e..aise...haaaannnnn...!",use kuchh hosh nahi tha ki vo kya chilla rahi hai,ki uske nakhun thukral ki pith chhed rahe the...use bas ye hosh tha ki uske badan ke andar 1 jaise kuchh bahut mazedar..kuchh bahut hi khushi dene vala ehsas bas milne hi wala hai...bas thodi der aur ye lund isi tarah uski chut chodta rahe...haannnn..!

aisi khushi,aisa maza use kabhi nahi hua tha..itni khushi ki uski aankho se aanso nikal pade..thik usi waqt use chut me kuchh garam sa mehsus hua-thukral bhi jhad chuka tha.vo ab uske badan pe let ke uske seene pe sar rakh ke hanf raha tha.sharon ne pyar se uske sar ko chuma & badi tasalli ka bhav chehre pe liye aankhe band kar li.


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: गहरी चाल

Unread post by rajaarkey » 06 Nov 2014 11:36

उस रात शॅरन को एहसास हुआ कि वो आज तक कितनी बड़ी खुशी से महरूम थी.उस दिन से वो जगबीर ठुकराल की मुरीद बन गयी.उसे ठुकराल पे पूरा भरोसा था कि वो उसका काम हो जाने के बाद टोनी को रास्ते से हटा के उसे अपनी बीवी बनाएगा.बेचारी!

इस वक़्त माधो कार को ठुकराल के बंगल के अंदर दाखिल कर रहा था,"माधो.",उसने शॅरन को कार मे बैठे रहने का इशारा किया.

"जी,हुज़ूर."

"लगता है निचली मंज़िल पे कुच्छ लोग बैठे हैं.मैं उतरता हू,तुम मेमसाहब को लेकर बाहर जाओ,फिर उस दूसरी कार मे बिठा के बगल वाले मकान के रास्ते उपरी मंज़िल तक पहुँचा देना."

थोड़ी ही देर बाद शॅरन ठुकराल की ऐषगाह मे अकेली खड़ी वाहा की सजावट देख रही थी,"कैसा लगा मेरी जाना हुमारा आशियाना?",ठुकराल मुस्कुराता हुआ वाहा दाखिल हुआ.

"लगता है यहा हर रोज़ सुहाग रत मनाते थे तुम.",शॅरन उसके करीब आ उसके कोट के बटन्स से खेलते हुए शोखी से मुस्कुराइ.

"मेरी जान!ये सारी सजावट तुम्हारे आने की खुशी मे कराई गयी है..",ठुकराल संजीदा हो गया,"..ये सच है की अब तक मैं कोई संत नही था...ये जिस्म तो कभी-2 बेकरार हो उठता है ना!...तुमसे पहले भी मेरी ज़िंदगी मे लड़किया आई हैं मगर मेरा यकीन करो जब से तुम्हे देखा है बस तुम ही तुम इस दिल मे बस गयी हो.",उसने शॅरन का हाथ कोट के बटन से हटा के अपने दिल पे रख दिया.

"ओह्ह...तुमने तो बात दिल पे ले ली,डार्लिंग!..मैं तो बस तुम्हे छेड़ रही थी.",शॅरन ने उसके गाल पे चूम लिया,अपने प्रेमी को यू परेशान सा देख उसके चेहरे पे भी संजीदगी आ गयी थी.

"वादा करो,शॅरन..मुझे छ्चोड़ के कही नही जयोगी.",ठुकराल ने उसके दोनो हाथ अपने हाथो मे ले लिए,उसकी आँखो मे वही डर था जो किसी नये आशिक़ की आँखो मे होता है क्यूकी उंहे हर वक़्त अपनी महबूबा के बिछड़ जाने का डर जो होता है.

"जगबीर...तू,म्हरी बाहो मे मैने जन्नत पाई है.मर भी गयी तो इतनी खुशी नसीब नही होगी.वादा करती हू अब तुम्हे छ्चोड़ना तो दूर..अब किसी और का ख़याल भी नही आएगा इस दिल मे."

"श!शॅरन.",ठुकारल ने उसे अपने सीने से लगा लिया & उसके होंठो पे वही जानी-पहचानी शैतानी मुस्कान फैल गयी.कितनी आसानी से ये चिड़िया उसके जाल मे फँस गयी थी!...ये सोचती है की वो उसे पाने के लिए टोनी को काम के बहाने रास्ते से हटाएगा,जबकि सच तो ये था की टोनी से सही ढंग से काम करने के लिए उसने इस हसीना को अपने घर मे रखा था क्यूकी वो जानता था की जब तक ये उसके पास है,टोनी भी उसकी नज़रो से ओझल नही होगा.

"डार्लिंग!तुम इतने बड़े मकान मे अकेले रहते हो?",शॅरन ने उसके सीने पे सर रखे-2 अपनी नज़रे उपर की.

"हां,मेरी जान.बस मैं & माधो.",ठुकराल ने अपनी रखैलो को कुच्छ दीनो के लिए बाहर भेज दिया था.अभी सबसे ज़रूरी बात थी षत्रुजीत सिंग की बर्बादी.अगर उसके लिए कुच्छ दीनो तक उसे अपनी अययाशी को कम भी करना पड़े तो उसे कोई शिकवा नही था...और फिर ऐसी मस्त,खूबसूरत बदन की मल्लिका तो थी ही उसका दिल बहलाने के लिए.

"मगर अब इस वीराने मे भी बहार आ जाएगी.",ठुकराल ने उसे गोद मे उठा लिया & बिस्तर की ओर बढ़ गया.

.............................................

पूरा लॉन किसी दुल्हन की तरह सज़ा हुआ था & बड़ी गहमा गहमी थी,होती भी क्यू ना आख़िर जायसवाल साहब की बेटी की शादी थी.कामिनी ने आज 1 काली सारी & स्लीव्ले ब्लाउस पहना था & अपने हुस्न की बिजली से उसने वाहा कयि मर्दो को अब तक घायल कर दिया था.

"हेलो,कामिनी..",कामिनी घूमी तो देखा की षत्रुजीत सिंग नंदिता के साथ खड़ा था.

"हाई!",उसने दोनो से हाथ मिलाया,"आप कैसी हैं,नंदिता जी?",कामिनी को खुद पे हैरत हुई,उसे लगा था की शत्रुजीत के साथ नाता जुड़ जाने पे वो शायद नंदिता का सामना नही कर पाएगी मगर ऐसा कुच्छ नही हुआ था.

"अच्छी हू,आप कैसी हैं?",थोड़ी देर तक कुच्छ रस्मी बात चीत के बाद दोनो आगे किसी और से मिलने को बढ़ गये.

"नमस्ते,कामिनी जी.",इस बार जगबीर ठुकराल खड़ा था.

"नमस्ते,ठुकराल साहब.",कामिनी ने गौर किया की ठुकराल बड़ी सफाई से फिर से उसके बदन की गोलाईयो का जायज़ा ले रहा है,उसकी चूत मे 1 कसक सी उठी...इतना तो तय था की ये आदमी 1 नंबर का आय्याश है!

जायसवाल ने सारा इंतेज़ाम 1 खुले लॉन मे किया था.मौसम खुशनुमा था & ठंडी हवा के झोंके बह रहे थे.ऐसे ही 1 झोंके ने कामिनी की सारी के आँचल को ज़रा उड़ाया तो उसका गोरा पेट नुमाया हो गया & ठुकराल की आँखे उसकी चिकने पेट से जैसे चिपक गयी.ठुकराल के दिल मे भी उस खूबसूरती की मिसाल को अपने बिस्तर मे खींच लेने की तमन्ना जाग उठी थी मगर कामिनी शरण 1 मानी हुई वकील थी,उसके साथ अगर कोई ऐसी-वैसी हरकत की तो वो फँस सकता था.

दोनो ड्रिंक्स काउंटर के पास खड़े बातें कर रहे थे की तभी काउंटर के पीछे खड़े वेटर ने कामिनी को उसका ड्रिंक लेने को कहा.कामिनी जैसे ही घूमी वैसे ही चौंक पड़ी-ठुकराल ने उसकी कमर पे हाथ फिरा दिया था.वो फ़ौरन पलटी,"माफ़ कीजिएगा..मगर ये कीड़ा आपके बदन पे चल रहा था.",ठुकराल ने घास पे पड़े 1 कीड़े की ओर इशारा किया.

"कोई बात नही.",कामिनी ने उसकी ओर थोड़ी कड़ी नज़र से देखा & आगे बढ़ गयी.

-------------------------------------------------------------------------------

कहा घूम रही हो!इधर आओ..",शत्रुजीत ने उसकी बाँह पकड़ के खींच लिया.

"क्या करते हो!कोई देख लेगा.",लॉन काफ़ी बड़ा था & 1 कोने मे पेड़ो के झुर्मुट के साथ 1 छ्होटा सा तालाब भी बना था.कपड़े के पारटिशन से उस हिस्से को पारट वाले हिस्से से अलग कर दिया गया था & वाहा अंधेरा भी था.पारटिशन के 1 किनारे से निकल के शत्रुजीत उसे वही पेड़ो के झुर्मुट मे ले गया & उसके गले लग गया.

"कही तुम्हारी बीवी ने देख लिया तो?",कामिनी ने उसे बाहो मे भरते हुए उसके सीने मे चेहरा छुपा लिया.जवाब मे शत्रुजीत ने कुच्छ बोलने के बजाय उसके चेहरे को उठा उसके गुलाबी होंठ चूम लिए.कामिनी को भी तो इसी बात का इंतेज़ार था,वो भी बड़ी शिद्दत के साथ उसे वापस चूमने लगी.

"नही..जीत..प्लीज़......ऊहह..!",शत्रुजीत ने उसे चूमते हुए उसकी सारी कमर तक उठा दी थी & पीछे से ही उसकी पॅंटी मे हाथ घुसा के उसकी गंद को मसलने लगा था.वो कामिनी की गर्दन चूम रहा था.कामिनी को मज़ा तो बहुत आ रहा था मगर साथ ही किसी के देख लेने का डर भी था,उसने 15-20 फ्ट की दूरी पे लगे कपड़े के पारटिशन के पार नंदिता का अक्स देखा तो जैसे उसकी चूत की कसक दोगुनी हो उठी...शत्रुजीत की बीवी बस कुच्छ ही दूरी पे खड़ी थी,इस बात से बेख़बर की कामिनी उसके पति की बाहो मे है.उसने नंदिता की ओर देखते हुए शत्रुजीत के दाए कान पे हौले से काट लिया.

"हाई..रा..आमम..पागल हो गये हो!...नही पॅंटी नही...!",उसकी बातो को अनसुना करते हुए शत्रुजीत ने उसकी पॅंटी खींच के उतार दी & फिर बाए हाथ से उसकी सारी को वैसे ही कमर तक उठाए हुए दाए हाथ से अपनी पॅंट की ज़िप खोल अपने लंड को बाहर निकाल लिया.

"तुम सच मे पागल हो गये हो!यहा कैसे करेंगे?!",कामिनी फुसफुसाई.शत्रुजीत ने मुस्कुराते हुए उसे पीछे के पेड़ से सटा दिया,फिर उसे सारी पकड़ने को कहा.कामिनी के दिल मे चाहे जितना भी डर हो,उसकी चूत तो बस लंड की आस मे गीली हुए जा रही थी.

कामिनी टाँगे फैला के पेड़ से सॅट के खड़ी हुई तो शत्रुजीत ने थोडा झुक के लंड को उसकी चूत मे दाखिल करा दिया,"..उउंम्म...!",कामिनी ने सारी थामे हुए आँखे मूंद कर, सर पीछे कर लिया.ऐसा करने से उसकी गोरी,लंबी गर्दन शत्रुजीत के सामने उभर आई.उसने अपने हाथ उसकी जाँघो के भीतर से उसकी गंद की फांको के नीचे लगाके उसे उठा लिया & फिर गर्दन चूमते हुए 1-2 धक्को मे पूरा का पूरा लंड अपनी प्रेमिका की चूत मे घुसा दिया.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: गहरी चाल

Unread post by rajaarkey » 06 Nov 2014 11:37

कामिनी ने अपनी सारी छ्चोड़ दी & बाहे उसके गले मे डाल दी & हवा मे उठी हुई उस से चुदने लगी.उसने अपनी बाहो मे शत्रुजीत की गर्दन को कस के उसके सर पे किस्सस की बौच्हर कर दी.इस तरह खुले मे नंदिता से कुच्छ ही दूरी पे चुदने मे उसे जैसा मज़ा महसूस हो रहा था ऐसा पहले कभी नही हुआ था.

इस पोज़िशन मे शत्रुजीत का लंड उसकी चूत की दीवारो के साथ-2 उसके दाने को भी रगड़ रहा था.शत्रुजीत ने अब तक उसे काई बार चोदा था मगर हर बार वो कामिनी की चूत के कसाव से चौंक जाता था.जब वो झड़ती थी तो चूत उसके लंड को और जाकड़ लेती थी & उस वक़्त जो एहसास उसे होता था,वैसा एहसास उसे किसी लड़की के साथ कभी नही हुआ.

इस वक़्त भी वो वही महसूस कर रहा था,कामिनी झाड़ गयी थी & अपनी आहे दबाने के लिए उसना अपना चेहरा उसकी गारदन मे दबा लिया था.शत्रुजीत का लंड भी उसकी चूत की सिकुड़न को और नही झेल पाया & उसने अपना पानी छ्चोड़ दिया.

जब कामिनी थोड़ा संभली तो शत्रुजीत ने उसे नीचे उतरा,फिर दोनो ने अपने कपड़े ठीक किए & वापस पार्टी मे चले गये.लोगो के बीच घुसते ही कामिनी को ध्यान आया की पॅंटी तो वही पेड़ो के पास रह गयी...अब दुबारा जाने पे भी अंधेरे मे वो उसे कहा ढूंडती फ़िरेगी.उसने बाथरूम जाने की सोची,लॉन के किनारे 1 बिल्डिंग बनी थी जिसमे कुच्छ कमरे & बाथरूमस बने थे.तभी किसी ने कहा की बारात आ गयी तो सारे लोग लॉन के गेट की ओर जाने लगे.उसी भीड़ मे किसी ने कामिनी की बाँह थामी,"अरे करण तुम कब आए?"

"थोड़ी देर पहले.आज तो कहर ढा रही हो.",उसने उसे सर से पाँव तक निहारा.

"अच्छा.",शोखी से मुस्कुराती हुई कामिनी बिल्डिंग की तरफ बढ़ गयी.

"उधर कहा जा रही हो?"

"फ्रेश होने."

"चलो मैं भी चलता हू."

"लॅडीस बाथरूम मे?"

"हां."

"जूते पड़ेंगे!"

"तुम्हारे लिए वो भी खा लेंगे!",दोनो हंसते हुए बिल्डिंग मे दाखिलहो गये.1 लंबे गलियारे के दोनो ओर कमरे बने हुए थे & गलियारे के अंत मे बाई तरफ लॅडीस & दाई तरफ जेंट्स बाथरूम था.कामिनी बाई तरफ घूमने ही वाली थी कि करण ने झटके से जेंट्स बाथरूम मे खींच लिया,"क्या कर रहे हो?"

"आज बड़ी खूबसूरत लग रही हो,जानेमन!ज़रा तुम्हे ढंग से देख तो लू."

"यहा?"

"नही यहा.",करण ने उसे 1 टाय्लेट मे खींच कर दरवाज़ा बंद कर लिया & फिर उसे बाँहो मे भर कर उसे पागलो की तरह चूमने लगा.

"प्लीज़,करण...बाहर चलो ना.".1 बार फिर कामिनी मदहोश होने लगी थी.करण ने पॉट की लीड गिराई & उस पे बैठ गया & कामिनी के पेट को चूमने लगा.उसकी जीभ लपलपाति हुई कामिनी की नाभि को चाटने लगी तो कामिनी का बदन फिर से मस्ती से भर गया.वो झुक कर पेट चूमते हुए करण के सर को पकड़ कर उसके बॉल खींचते हुए उसे चूमने लगी,"..पागल....कही..न्के...च..लो...बह..आर..ऊओफफफ्फ़....!"

करण ने हाथ पीछे ले जाके उसके ब्लाउस के हुक्स खोले & तेज़ी से उसके ढीले ब्लाउस & ब्रा को उपर कर दिया & मज़बूती से उसकी कमर थामे उसकी छातिया चूमने लगा.अब कामिनी बिल्कुल मदहोश हो गयी.शत्रुजीत से चुद्ते वक़्त उसके निपल्स इतने कड़े हो गये थे की उनमे दर्द होने लगा था.करण की ज़ुबान अभी जैसे मरहम का काम कर रही थी.करण के हाथ उसकी कमर से नीचे आ उसकी सारी उठा रहे थे.कामिनी ने आँखे खोली तो देखा की करण की खुली पॅंट मे से उसका लंड झाँक रहा है.उसने कब पॅंट खोली मदहोशी की वजह से उसे पता भी ना चला.

करण ने सारी उठाई तो पाया की कामिनी ने पॅंटी ही नही पहनी है,"वेरी गुड!",वो उसकी तरफ शरारत से मुस्कुराया & उसकी कोमल गंद को सहलाते हुए 1 उंगली उसकी चूत से लगा दी जहा की कामिनी & शत्रुजीत का मिला-जुला पानी अभी भी मौजूद था,"वाउ..तुम इतनी गीली हो.",करण की उंगली भीग गयी थी.उसने फ़ौरन कामिनी की कमर को पकड़ कर अपने उपर आने का इशारा किया.कामिनी फ़ौरन उसकी गोद मे बैठने लगी,"..ऊवन्न्न्नह...",जैसे-2 वो बैठ रही थी,वैसे-2 करण का लंड उसकी चूत मे घुस रहा था.जैसे ही लंड पूरा गया कामिनी ने उच्छल-2 कर चुदाई शुरू कर दी.करण उसकी कमर को थामे उसकी पीठ सहलाता हुआ उसकी चूचिया चूसने लगा.

कामिनी आहे भरते हुए उसके सर को अपने सीने से जकड़े बस उच्छले जा रही थी...ऐसे किसी पब्लिक प्लेस मे जहा की पकड़े जाने का डर हो,वाहा चुदाई करने मे इतना रोमांचित कर देने वाला मज़ा आएगा उसे तो अंदाज़ा ही नही था!करण भी अब नीचे से अपनी कमर हिला रहा था.कामिनी की चूत का तो हाल बुरा था,अचानक कामिनी ने करण को कस के जाकड़ लिया तो करण भी उसकी बाई चूची को मुँह मे भर कर लगातार चूसने लगा,उसकी कमर भी अपनेआप झटके खा रही थी.दोनो 1 साथ झाडे & कामिनी की चूत मे अब उसके पानी के साथ-2 शत्रुजीत & करण-दोनो का पानी मिल गया.

थोड़ी देर तक दोनो वैसे ही बैठे 1 दूसरे को चूमते रहे,फिर उठ कर अपने कपड़े ठीक किए & करण ने सावधानी के साथ दोनो को वाहा से बाहर निकाला.ख़ैरियत थी की उनकी चुदाई के बीच किसी ने भी बाथरूम इस्तेमाल नही किया नही तो दोनो ज़रूर पकड़े जाते.बाहर से बंद का शोर आ रहा था,लग रहा था की बारात दरवाज़े पे आ गयी है.

दोनो बिल्डिंग से बाहर निकल ही रहे थे कि दोनो मिसेज़. & मिस्टर.चंद्रा से टकरा गये,"अरे कामिनी,कैसी हो?"

"ठीक हू आंटी.आप कैसी हैं?",कामिनी ने दोनो को प्रणाम किया & फिर करण से मिलवाया.करण उनसे मिलकर पार्टी मे वापस चला गया,"अरे कामिनी बाथरूम किधर है?",मिसेज़.चंद्रा ने पूचछा.

"आइए आंटी,मैं दिखाती हू."

"अच्छा हुआ तुम मिल गयी.हम दोनो बाथरूम ही ढूंड रहे थे.",चंद्रा साहब ने उसकी तरफ हसरत भारी निगाहो से देखा.मिसेज़.चंद्रा थोड़ा आयेज चल रही थी.इसी बात का फयडा उठा के चंद्रा साहब ने कामिनी की गंद को दबा दिया.कामिनी ने उन्हे बनावटी गुस्से से देखा & फिर मिसेज़.चंद्रा को लड़ीसे बाथरूम मे ले गयी.अंदर मिसेज़.चंद्रा जैसे ही 1 टाय्लेट मे घुसी रेस्टरूम का दरवाज़ा खुला & चंद्रा साहब अंदर घुस आए & कामिनी को बाहो मे भर लिया,".प्लीज़..सर..यहा नही..कही आंटी ने देख लिया तो ग़ज़ब हो जाएगा!"

"उसे बहुत टाइम लगता है,मेरी जान!..और आज तुम इतनी कमाल लग रही हो..फिर इतने दीनो से अपने सर से मिलने भी नही आई इसकी सज़ा तो तुम्हे मिलनी ही चाहिए..",वो फुसफुसते हुए उसके चेहरे,होंठो & गले को चूमते हुए उसकी गंद दबा रहे थे.

"..उउंम्म..क्या करती?आंटी के होते कैसे आऊँ!..आप ही आ जाते मेरे घर..मैं तो अकेली रहती हू..",कामिनी की बात से चंद्रा साहब और जोश मे आ गये.उन्होने कामिनी को घुमाया & उसकी सारी उठाने लगे,"नही..सर...आंटी..",वो इतना ही कह पाई क्यूकी उसकी सारी उठा के चंद्रा साहब ने जीभ उसकी चूत से लगा दी थी,"..तुम तो अभी से ही इतना पानी छ्चोड़ रही हो,कामिनी.",वो उठ खड़े हुए-उस बेचारे को क्या पता था कि ये सिर्फ़ कामिनी का ही नही शत्रुजीत & करण का भी पानी था.

कामिनी वॉशबेसिन के दोनो तरफ हाथ रख के खड़ी थी..पहले शत्रुजीत,फिर करण..& अब चंद्रा साहब-उसका बदन तो आज जैसे मस्ती से बाहर ही नही आने वाला था.चंद्रा साहब ने उसकी सारी को उसकी कमर तक उठा के अटकाया & तुरंत अपना लंड निकाल कर कामिनी की चूत मे घुसा दिया.चूत इतनी गीली थी की लंड सरर से अंदर चला गया,"..ऊओवव..!"

"क्या हुआ कामिनी?",टाय्लेट के अंदर से मिसेज़.चंद्रा की आवाज़ आई.चंद्रा साहब झुकी हुई कामिनी के उपर अपनी छाति उसकी पीठ से सताए झुक के बाए हाथ से उसकी कमर & दाए हाथ से उसकी चूचियो को पकड़ कर उसकी कनपटी चूमते हुए बड़ी तेज़ी से उसे चोद रहे थे.

"कुच्छ नही..आंटी.1 चूहा अचानक आ गया था..अब अपने बिल मे चला गया.",उसने सामने लगे शीशे मे अपने गुरु को देख कर उन्हे चूमने का इशारा किया.कामिनी की नशीली आँखे,मस्ती भरे चेहरे के साथ ऐसी हरकत ने चंद्रा साहब को पागल कर दिया.उन्होने उसका चेहरा घुमा कर उसके होंठो को अपने होंठो की क़ैद मे ले लिया & ऐसे धक्के मारे की कामिनी को भी शक़ हो गया की ये बुद्धा आदमी सच मे बुद्धा है भी या नही!आज दूसरी बार कामिनी 1 मर्द से उसकी अंजान बीवी की मौजूदगी मे चुद रही थी.इस ख़याल ने उसकी मस्ती और बढ़ा दी.उसने 1 नज़र टाय्लेट के बंद दरवाज़े पे डाली & दूसरी शीशे मे दिख रहे अपने आशिक़ पे & उनके लंड का लुत्फ़ उठाने लगी.

उसकी चूत का हाल बाद से बदतर हो गया..वो ज़्यादा देर तक चंद्रा साहब के लंड को बर्दाश्त नही कर पाई & झाड़ गयी.चंद्रा साहब को भी जल्दी थी,उन्हे भी डर था की कही उनकी बीवी बाहर ना आ जाए.उन्होने जल्दी-2 कुच्छ तेज़,गहरे धक्के लगाके अपनी शिष्या की चूत को अपने पानी से भर दिया.

जब मिसेज़.चंद्रा बाहर आई तो कामिनी अकेली वाहा उनका इंतेज़ार कर रही थी & चंद्रा साहब वापस पार्टी मे जा चुके थे.

----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

ठुकराल लॉन के बाहर पार्किंग मे आया तो माधो उसकी कार को दरवाज़ा खोल खड़ा हो गया.उसकी कार से कुच्छ दूरी पे 1 और कार खड़ी थी जिसका ड्राइवर खड़ा सिगरेट पी रहा था.ठुकराल ने अपनी जेब से पॅकेट निकाल कर 1 सिगरेट निकाली.उसने जेब मे दुबारा हाथ डाला पर लाइटर शायद वो घर भूल आया था,"अरे भाई!ज़रा सुनो.",

वो ड्राइवर पलटा तो ठुकराल ने उसे सिगरेट दिखा के माचिस माँगी.

ड्राइवर पास आया & ठुकराल की सिगरेट जलाने लगा,"सारी बाते हो चुकी हैं.शुक्रवार की रात को काम ठीक से हो जाना चाहिए."

"आप बेफ़िक्र रहे,सर.",टोनी ने सिगरेट जला के माचिस बुझाई & वापस अपने कार की ओर चला गया.ठुकराल सिगरेट पीते हुए अपनी कार मे बैठ गया.अब्दुल पाशा भी पार्किंग ही की तरफ आ रहा था मगर ये कह पाना मुश्किल है की उसने ठुकराल & टोनी को साथ देखा या नही.जो भी हो,शुक्रवार की रात शायद सबकी ज़िंदगी मे उथल-पुथल मचाने वाली थी.

क्रमशः.................