sex story arena - उशा की कहानी - hindi sex story

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit pddspb.ru
User avatar
Fuck_Me
Platinum Member
Posts: 1107
Joined: 15 Aug 2015 03:35

sex story arena - उशा की कहानी - hindi sex story

Unread post by Fuck_Me » 27 Dec 2015 03:59

उशा अपने मा-बाप कि एकलौती लरकी है और देलहि मे रहती है। उशा के पितजी, मर। जिवन शरमा देलहि मे हि ल।इ।स। मे ओफ़्फ़िसेर थे और पेचले चर सल पहले सवरगवसि हो गये थे और उशा कि मतजी, समत। रजनि एक हौसे विफ़े है। उशा के और दो भै भि है और उनकि शदी भि हो गयी है। उशा पीचले साल हि म।अ। (एनगलिश) पस किया है। उशा का रनग बहुत हु गोरा है और उसके फ़िगुरे 36-25-38 है। वो जब चलती है तो उसके कमर मे एक अजीब सि बल खती है और चलते वकत उसकि चुतर बहुत हिलते है। उसके हिलते हुए चुतर को देख कर परोस के कयी नवजवन, और बुरहे आदमी का दिल मचल जता है और उनके लुनद खरा हो जता है। परोस के कै लरकोन ने कफ़ी कोशिश की लेकिन उशा उनके हथ नही आउई। उशा अपने परहैए और उनिवेरसिती के सनगी सथी मे हि मुशगूल रहती थी। थोरे दिनो के बद उशा कि शदी उसि सहर के रहने वले एक पोलिसे ओफ़्फ़िसेर से तया हो गयी।

उस लरके के नम रमेश था और उसके पितजी का नम गोविनद था और सब उनको गोविनदजी कहकर बुलते थे। गोविनदजी अपने जवनी के दिनो मे और अपनि शदि के बद भि हर औरत को अपनि नज़र से चोदते थे और जब कभि मौका मिलता था तो उनको अपनि लौरे से भि चोदते थे। गोविनदजी कि पतनि का नम सनेहलरा है और वोए क लेखिका है। अब तब गिरिजा जी ने करीब 8-10 कितबे लिख चुकि है। गोविनदजी बहुत चोदु है औरा अब तक वो अपने घर मे कैए लरकी और औरत को चोद चुके थे और अब जब कि उनका कफ़ी उमर हो गया था मौका पते हि कोइ ना कोइ औरत को पता कर अपनि बिसतेर गरम करते थे। गोविदजी का लुनद कि लुमबै करीब 8 1/2” लुमबा औ मोतै करीब 3 ½” है और वो जब कोइ औरत कि चूत मे अपना लुनद दलते तो करीब 25-30 मिनुत के पहले वो झरते नही है। इसिलिये जो औरत उनसे अपनि चूत चुदवा लेति है फिर दोबरा मौका पते हि उनका लुनद अपनि चूत मे पिलवा लरति हैन।

आज उशा का सुहगरत्त है। परसोन हि उसकि शदि रमेश के सथ हुए थी। उशा इस समय अपने कमरे मे सज धज कर बैथी अपनी पति का इनतिजर कर रही है। उसकि पति कैसे उसके सथ पेश अयेगा, एह सोच सोच कर उशा का दिल जोर जोर से धरक रहा है। सुहगरत मे कया कया होता है, एह उसको उसकी भभी और सहेलोएओन ने सब बता दिया था। उशा को मलुम है कि आज रत को उसके पति कमरे मे आ कर उसको चुमेगा, उसकि चुनसिओन को दबैगा, मसलेगा और फिर उसके कपरोन को उतर कर उसको ननगी करेगा। फिर खुद अपने कपरे उतर कर ननगा हो जयेगा। इसके बद, उसका पति अपने खरे लुनद से उसकि चूत कि चतनी बनते हुए उसको चोदेगा।

वैसे तो उशा को चुदवने कि तजुरबा शदी के पहले से हि है। उशा अपने सोल्लेगे के दिनो मे अपने सलस्स के कै लरकोन का लुनद अपने चूत मे उत्रवा चुकि है। एक लरके ने तो उशा को उसकि सहली के घर ले जा कर सहेली के समने हि चोदा था और फिर सहेली कि गनद भि मरी थी। एक बर उशा अपने एक सहलि के घर पर शदि मे गयी हुइ थी। वहन उस सहलि के भै, सुरेश, ने उसको अकेले मे चेर दिया और उशा का चुनची दबा दिया। उशा सिरफ़ मुसकुरा दिया। फिर सहली के भै ने अगे बरह कर उशा को पकर लिया और चुम लिया। तब उशा ने भि बरह कर सहली के भै को चुम लिया। तब सुरेश ने उशा के बलौसे के अनदर हथ दल उसकि चुनची मसलने लगा और उशा भि गरम हो कर अपनि चुनची मसलवने लगी और एक हथ से उसके पनत के उप्पेर से उसके लौनद पर रख दिया। तब सुरेश ने उशा को पकर कर चत पर ले गया। चत पर कोइ नही था, कयोनकी सरे घर के लोग नीचे शदी मे बयसते थे। चत पर जा कर सुरेश ने उशा को चत कि दिवर से खरा कर दिया और उशा से लिपत गया। सुरेश एक हथ से उशा कि चुनची दबा रहा था और दुसरा हथ सरी के अनदर दल कर उसकि बुर को सहला रहा था। थोरि देर मे हि उशा गरमा गयी और उसकि मुनह से तरह तरह कि अवज निकलने लगी। फिर जब सुरेश ने उशा कि सरी उतरने चहा तो उशा ने मना कर दिया और बोलि, “नही सुरेश हुमको एकदम से ननगी मत करो। तुम मेरा सरी उथा कर, पीचे से अपना गधे जैसा लुनद मेरि चूत मे पेल कर मुझे चोद दो।” लेकिन सुरेश ना मना और उसने उशा को पुरि तरह ननगी करके उसको चत के मुनदेर से खरा करके उसके पीचे जा कर अपना लुनद उसकि चूत मे पेल कर उसको खुब रगर रगर कर चोदा। चोदते समय सुरेश अपने हथोन से उशा कि चुनचेओन को भि मसल रहा था। उशा अपनि चूत कि चुदै से बहुत मजा ले रही थी और सुरेश के हर धक्के के सथ सथ अपनि कमर हिला हिला कर सुरेश का लुनद अपनि चूत से खा रही थी। थोरि देर के बद सुरेश उशा कि चूत चोदते चोदते झर गया। सुरेश के झरते हि उशा ने अपनि चूत से सुरेश का लुनद निकल दिया और खुद सुरेश के समने बैथ कर उसका लुनद अपने मुमह मे ले कर चत चत कर सफ़ कर दिया। थोरि देर के बद उशा और सुरेश दोनो चत से नीचे आ गये।

आज उशा अपनि सुहगरत कि सेज पर अपनि कै बर कि चुदि हुए चूत ले कर अपने पति के लिये बैथी थी। उसकि दिल जोर जोर से धरक रही थी कयोनकी उशा को दर था कि कहीन उसके पति एह ना पता चल जये कि उशा पहले हि चुदै का अनद ले चुकी है। थोरि देर के बद कमरे का दरवजा खुला। उशा ने अपनि अनख तीरची करके देझि कि उसकी ससुरजी, गोविनदजी, कमरे मे आये हुए हैन। उशा का मथा थनका, कि सुहगरत के दिन ससुरजी का कया कम आ गया है। खैर उशा चुपचप अपने आप को सिकोर बैथी रही। थोरि देर के बद गोविनदजी सुहग कि सेज के पस आये और उशा के तरफ़ देख कर बोला,”बेति मैं जनती हुन कि तुम अपने पति के लिये इनतिजर कर हो। आज के सब लरकेअन अपने पति का इनतिज़र करती है। इस दिन के लिये सब लरकिओन का बहुत दिनो से इनतिज़र रहती है। लेकिन तुमहरा पति, रमेश, आज तुमसे सुहगरत मनने नही आ पयेगा। अभि अभि थने से फोने आया था और वोह अपने उनिफ़ोरम पहन कर थने चला गया। जते जते, रमेश एह कह गया कि सहर के कै भग मे दकैती परी है और वोह उसके चनबिन करने जा रहा है। लेकिन बेति तु बिलकुल चिनता मत करना। मैं तेरा सुहगरत खली नही जने दुनगा।” उशा अपने ससुरजी कि बत सुन तो लिया पर अपने ससुर कि बत उसकि दीमग मे नही घुसा, और उशा अपना चेहेरा उथा कर अपने ससुर को देखने लगी। गोविनदजी अगे बरह कर उशा को पलनग पर से उथा लिया और जमीन पर खरा कर दिया। तब गोविनदजी मुसकुरा कर उशा से बोले, “घबरना नही, मैं तुमहरा सुहगरत बेकर जने नही दुनगा, कोइ बत नही, रमेश नही तो कया हुअ मैं तो हुन।” इतना कह कर गोविनदजी अगे बरह कर उशा को अपने बनहोन मे भर कर उसकि होथोन पर चुम्मा दे दिया।

जैसे हि गोविनदजी ने उशा के होथोन पर चुम्मा दिया, उशा चौनक गयी और अपने ससुरजी से बोलि, “एह आप कया कर रहेन है। मि अपके बैते कि पतनि हुन और उस लिहज से मैं आप कि बेति लगती हुन और मुझको चुम रहेन है?” गोविनदजी ने तब उशा से कह, “पगल लरकी, अरे मैं तो तुमहरि सुहगरत बेकर ना जये इसलिये तुमको चुमा। अरे लरकिअन जब शदि के पहले जब शिव लिनग पर पनि चरते है तब वो कया मनगती है? वो मनगती है कि शदि के बद उसका पति उसको सुहगरत मे खुब रगरे। समझी? उशा ने पनि चेहेरा नीचे करके पुची, “मैं तो सब समझ गयी, लेकिन सुहगरत और रगरने वलि बत नही समझी।” गोविनदजी मुसकुरा कर बोले, “अरे बेति इसमे ना समझने कि कया बत है? तु कया नही जनती कि सुहगरत मे पति और पतनि कया कया करते है? कया तुझे एह नही मलुम कि सुहगरत मे पति अपने पतनि को कैसे रगरता है?” उशा अपनि सिर को नीचे रखती हुइ बोलि, “हान, मलुम तो है कि पहलि रत को पति और पतनि कया कया करते और करवते हैन। लेकिन, आप ऐसा कयोन कह रहेन है?” तब गोविनदजी अगे बरह कर उशा को अपने बहोन मे भर लिया और उसकि होथोन को चुमते हुए बोले, “अरे बहु, तेरा सुहगरत खलि ना जये, इसलिये मैं तेरे सथ वो सब कम करुनगा जो एक अदमि और औरत सुहगरत मे करते हैन।”

उशा अपनि ससुर के मुनह से उनकि बत सुन कर शरमा गयी और अपने हथोन से अपना चेहेरा धनक लिया और अपने ससुर से बोलि, “है! एह कया कह रहेन है आप। मैं अपके बेते कि पतनि हुन और इस नते से मैं अपकि बेति समन हुन और मुझसे कया कह रहेन है?” तब गोविनदजी अपने हथोन से उशा कि चुनचिओन को पकर कर दबते हुए बोले, “हन मैं जनता हुन कि तु मेरि बेति समन है। लेकिन मैं तुझे अपने सुहगरत मे तरपते नही देख सकता और इसिलिये मैं तेरे पस अयह उन।” तब उशा अपने चेहेरे से अपना हथ हता कर बोलि, “थीक है बबुजी, आप मेरे से उमर मे बरे हैन। आप जो हि कह रहेन है, तीक हि कह रहेन हैन। लेकिन घर मे आप और मेरे सिबा और भि तो लोग हैन।” उशा का इशरा अपने ससुमा के लिये थी। तब गोविनदजी ने उशा कि चुनची को अपने हथोन से बलौसे के उपर से मलते हुए कह, “उशा तुम चिनता मत करो। तुमहरि ससुमा को सोने से पहले दूध पिने कि अदपत है, और आज मैं उनकि दूध मे दो नीनद कि गोलि मिला कर उनको पिला दिया है। अब रत भर वो अरम से सोती रहेनगी।” तब उशा ने अपने हथोन से अपने सौरजी कि कमर पकरते हुए बोलि, “अब आप जो भि करना है किजिए, मैं मना नहि करुजगी।”

तब गोविनदजी उशा को अपने बहोन मे भिनच लिया और उसकि मुनह को बेतहशा चुमने लगे और अपने दोनो हथोन से उसकि चुनचेओन को पकर कर दबने लगे। उशा भि चुप नही थी। वो अपने हथोन से अपने ससुर का लुनद उनके कपरे के उपर से पकर कर मुथिअ रही थी। गोविनदजी अब रुकने के मूद मे नही थे। उनहोने उशा को अपने से लग किया और उसकि सरी कि पल्लू को कनधे से नीचे गिरा दिया। पल्लू को नीचे गिरते हि उशा कि दो बरि बरि चुनची उसके बलौसे के उपर से गोल गोल दिखने लगी। उन चुनची को देखते हि गोविनदजी उन पर तुत परे और अपना मुनह उस पर रगरने लगे। उशा कि मुनह से ओह! ओह! अह! कया कर रहे कि अवजे अने लगी। थोरि देर के बद गोविनदजी ने उशा कि सरी उतर दिया और तब उशा अपने पेत्तिसोअत पहने हि दौर कर कमरे का दरवजा बनद कर दिया। लेकिन जब उशा कमरे कि लिघत बुझना चही तो गोविनदजी ने मना कर दिया और बोले, “नही बत्ती मत बनद करो। पहले दिन रोशनि मे तुमहरि चूत चोदने मे बहुत मज़ा अयेगा।” उशा शरमा कर बोलि, “तीख है मैं बत्ती बनद नही कर ती, लेकिन आप भि मुझको बिलकुल ननगी मत किजियेगा।” “अरे जब थोरि देर के बद तुम मेरा लुनद अपनि चूत मे पिलवओगी तब ननगी होने मे शरम कैसा। चलो इधर मेरे पस आओ, मैं अभि तुमको ननगी कर देता हुन।” उशा चुपचप अपना सर नीचे किये अपने ससुर के पस चलि आये।

जैसे हि उशा नज़दिक आयी, गोविनदजी ने उसको पकर लिया और उसके बलौसे के बुत्तोन खोलने लगे। बुत्तोन खुलते हि उशा कि बरि बरि गोल गोल चुनचिअन उसके बरा के उपर से दिखने लगी। गोविनदजी अब अपना हथ उशा के पीचे ले जकर उशा कि बरा कि हूक भि खोल। हूक खुलते हि उशा कि चुनची बहर गोविनदजी के मुनह के समने झुलने लगि। गोविनदजी तुरनत उन चुनचेओन को अपने मुनह मे भर लिया और उनको चुसने लगे। उशा कि चुनचेओन को चुसते चुसते वो उशा कि पेत्तिसोअत का नरा खीनच दिया और पेत्तिसोअत उशा के पैर से सरकते हुए उशा के पैर के पस जा गिरा। अब उशा अपने ससुर के समने सिरफ़ अपने पनती पहने कहरी थी। गोविनदजी ने झत से उशा कि पनती भि उतर दी और उशा बिलकुल ननगी हो गयी। ननगी होते हि उशा ने अपनि चूत अपने हथोन से धक लिया और सरमा कर अपने ससुर को कनखेओन से देखने लगी। गोविनदजी ननगी उशा के सामने जमीन पर बैथ गये और उशा कि चूत पर अपना मुनह लगा दिया। पहले गोविनदजी अपने बहु कि चूत को खुब सुघा। उशा कि चूत से निकलती सौनधी सौनधी खुशबु गोविनदजी के नक मे भर गया। वो बरे चव से उशा कि चूत को सुनघने लगे। थोरि देर के बद उनहोने अपना जीव निकल कर उशा कि चूत को चतना सुइरु कर दिया। जैसे हि उनका जीव उशा कि चूत मे घुसा, तो उशा जो कि पलनग के सहरे खरे थी, पलनग पर अपनि चुतर तिका दिया और अपने पैर फ़ैला कर अपनि चूत अपनि सौसर से चतवने लगी। थोरि देर तक उशा कि चूत चतने के बद गोविनदजी अपना जीव उशा कि चूत के अनदर दल दिया और अपनि जीव को घुमा घुमा कर चूत को चुसने लगे। अपनि चूत चतै से उशा बहुत गरम हो गयी और उसने अपने हथोन से अपनि ससौर का सिर पकर कर अपनि चूत मे दबने लगी और उसकि मुनह से सी सी कि अवजे भि निकलने लगी।
.......................................

A woman is like a tea bag - you can't tell how strong she is until you put her in hot water.

User avatar
Fuck_Me
Platinum Member
Posts: 1107
Joined: 15 Aug 2015 03:35

Re: sex story arena - उशा की कहानी - hindi sex story

Unread post by Fuck_Me » 27 Dec 2015 04:00

अब गोविनदजी उथ कर उशा को पलनग पर पिथ के बल लेता दिया। जैसे हि उशा पलनग पर लेती, गोविनदजी झपत कर उशा पर चर बैथ गये और अपने दोनो हथोन से उशा कि चुनचेओन को पकर कर मसलने लगे। गोविनदजी अपने हथोन से उशा कि चुनची को मसल रहे थे और मुनह से बोल रहे थे, “मुझे मलुम था कि तेरि चुनची इतनि मसत होगि। मैं जब पहली बर तुझको देखने गया था तो मेरा नज़र तेरि चुनची पर हि थी और मैने उसि दिन सोच लिया था इन चुनचेओन पर मैं एक ना एक दिन जरूर अपना हथ रखुनगा और इनको रगर रगर कर दबुनगा। “है! अह! ओह! एह आप कया कह रहेन है? एक बप होकर अपने लरके के लिये लरकी देखते वकत आप उसकि सिरफ़ चुनचिओन को घुर रहे थे। ची कितने गनदे है आप” उशा मचलती हुइ बोलि। तब गोविनदजी उशा को चुमते हुए बोले, “अरे मैं तो गनदा हुन हि, लेकिन तु कया कम गनदी है? अपने ससुर के समने बिलकुल ननगी परी हुइ है और अपनि सुनचिओन को ससुर से मसलवा रही है? अब बता कयोन जयदा गनदा है, मैं या तु?” फिर गोविनदजी ने उशा से पुचा, “अस्सहा एह बत कि चुमची मसलै से तेरा कया हल हो रहा है?” उशा अपने ससुर से लिपत कर बोलि, “"ऊऊह्हह्हह और जोरे से हान ससुरजी और जोरे से दबाओ बदा मजा आरहा है मुझे, अपका हथ औरतोन के चुमची से खेलने मे बहुत हि महिर है। अपको पता है कि औरतोन कि चुनची कैसे दबया जता है। और जोर से दबैये, मुझे बहुत मज़ा आ रहा है। फिर उशा अपने ससुर को अपने हथोन से बनधते हुए बोलि, “अब बहुत हो गया है चुनची से खेलना। आपको इसके आगे जो भि करने वले हैन जलदी किजिये, कहीन रमेश ना आ जये और मेरि भि चूत मे खुजली हो रही है।” “अभि लो, मैं अभि तुझको अपने इस मोते लुनद से चोदता हुन। आज तुझको मैं ऐसा चोदुनगा कि तु जिनदगी भर यद रखेगी” इतना कह कर गोविनदजी उथकर उशा के पैरोन के बीच उकरु हो कत बैथ गये।

ससुरको अपने ऊप्पेर से उथते हि उशा ने अपनि दोनो तनगोन को फ़ैला कर ऊपर उथा लिया और उनको घुतने से मोर कर अपना घुतना अपने चुनचिओन पर लगा लिया। इस्से उशा कि चूत पुरि तरह से खुल कर ऊपर आ गयी और अपने ससुर के लुनद अपनि चूत को खिलने के लिये तयर हो गयी। गोविनदजी भि उथ कर अपना धोति उतर, उनदेरवेअर, कुरता और बनिअन उतर कर ननगे हो गये और फिर से उशा के खुले हुए पैरोन के बीच मे आकर बैथ गये। तब उशा उथ कर अपने ससुर का तनतनया हुअ लुनद अपने नज़ुक हथोन से पकर लिया और बोलि, “ऊओह्हह्हह ससुरजी कितना मोता और सखत है अपका यै।” गोविनदजी अतब उशा के कन से अपना मुनह लगा कर बोले, “मेरा कया? बोल ना उशा, बोल” गोविनदजी अपने हथोन से उशा का गदरया हुअ चुमचेओन को अपने दोनो हथोन से मसल रहे थी और उशा अपने ससुर का लुनद पकर कर मुथी मे बनधते हुए बोलि, "आआअह्हह्ह ऊओफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ ऊईईइम्मम्ममाआ ऊऊह्हह्ह ऊऊउह्हह्हह्हह्ह! अपका एह पेनिस स्सस्सह्हह्हह्हह्ह ऊऊम्मम्मम्ममाआह्हह्ह।" गोविनदजी फिरसे उशा के कन पर धिरे से बोले, "उशा हिनदि मैं बोलो ना इसका नाम पलेअसे"। उशा ससुर के लुनद को अपने हथोन मे भर कर अपनि नज़र नीची कर के अपने ससुर से बोलि, “मैं नही जनता, आप हि बोलिए ना, हिनदि मे इसको कया कहते हैन।” गोविनदजी ने हनस कर उशा कि चुनची के चुसते हुए बोले, “अरे ससुर के समने ननगी बैथी है और एह नही जनती कि अपने हथ मे कया पकर रखी है? बोल बेति बोल इको हिनदि मे कया कहते और इस्से अभि हुम तेरे सथ कया करेनगे।”

तब उशा ने शरमा कर अपने ससुर के नगी चती मे मुनह चुपते हुए बोलि, “ससुरजी मैं अपने हथोन से अपका खरा हुअ मोता लुनद पकर रखी है, और थोरि देर के बद आप इस लुनद को मेरि चूत के अनदर दल कर मेरि चुदै करेनगे। बस अब तो खुश हैन आप। अब मैं बिलकुल बेशरम होकर आपसे बत करुनगी।” इतना सुन कर गोविनदजी ने तब उशा को फिर से पलनग पर पीथ के बल लेता दिया और अपने बहु के तनगो को अपने हथोन से खोल कर खुद उन खुली तनगो के बीच बैथ गये। बैथने के बद उनहोने झुक कर उशा कि चूत पर दो तीन चुम्मा दिया और फिर अपना लुनद अपने हथोन से पकर कर अपनि बहु कि चूत के दरवजे पर दिया। चूत पर लौनद रखते हि उशा अपनि कमर उथा उथा कर अपनि ससुर के लुनद को अपनि चूत मे लेने कि कोशिश करने लगी। उशा कि बेतबी देख कर गोविनदजी अपने बहु से बोलि, “रुक चिनल रुक, चूत के समने लुनद आते हि अपनि कमर उचका रही है। मैं अभि तेरे चूत कि खुजली दुर करता हुन।” उशा तब अपने ससुर के चती पर हथ रख कर उनकि निप्पले के अपने उनगलेओन से मसलते हुए बोलि, “ऊऊह्हह ससुरजी बहुत हो गया है। आब बरदशत नहिन हो रहा है आओ ना ऊऊओह्हह पलेअसे ससुरजी, आओ ना, आओ और जलदी से मुझको चोदो। आब देर मात कारो आब मुझे चोदो ना आब और कितनि देर करेनगे ससुरजी। ससुर जी जलदी से अपना एह मोता लुनद मेरि चूत मे घुसेर दिजिये। मैं अपनि चूत कि खुजली से पगल हुए जा रही हुन। जलदी से मुझे अपने लुनद से चोदिये। अह! ओह! कया मसत लुनद है अपका।” गोविनदजी अपना लुनद अपने बहु कि चूत मे थेलते हुए बोले, “बह रे मेरे चिनल बहु, तु तो बरि चुद्दकर है। अपने मुनह से हि अपने ससुर के लुनद कि तरीफ़ कर रही है और अपनि चूत को मेरा लुनद खिलने के लिये अपनि कमर उचका रही है। देख मैं आज रत को तेरे चूत कि कया हलत बनता हुन। सलि तुझको चोद चोद करत तेरि चूत को भोसरा बना दुनग” और उनहोने एक हि झतके के सथ अपना लुनद उशा कि चूत मे दल दिया।

चूत मे अपने ससुर का लुनद घुसते हि उशा कि मुनह से एक हलकी सि चिख निकल गये और उसने पने हथोन से अपने ससुर को पकर उनका सर अपनि चुनचेओन से लगा दिया और बोलने लगी, “वह! वह ससुर जी कया मसत लुनद है आपका। मेरि तो चूत पुरि तरह से भर गये। अब जोर जोर से धक्का मा कर मेरि चूत कि खुजली मिता दो। चूत मे बहुत खुजली हो रही है।” “अभि लो मेरे चिनल चुद्दकर बहु, अभि मैं तेरि चूत कि सरि कि सरि खुजली अपने लुनद के धक्के के सथ मितता हुन” गोविनदजी कमर हिला कर झतके के सथ धक्का मरते हुए बोले। उशा भि अपने सौर के धक्के के सथ अपनि कमर उचल उचल कर अपनि चूत मे अपने ससुर का लुनद लेते बोलि, “ओह! अह! अह! ससुरजी मज़ा आ गया। मुझे तो तरे नज़र आ रहेन है। अपको वाकि मे औरत कि चूत चोदने कि कला आती है। चोदिए चोदिए अपने बहु कि मसत चूत मे अपना लुनद दल कर खूब चिदिए। बहुत मज़ा मिल रहा है। अब मैं तो आपसे रोज़ अपनि चूत चुदवौनगी। बोलिये चोदेनगे ना मेरि चूत?” गोविनदजी अपनि बहु कि बत सुन कर मुसकुरा दिये और अपना लुनद उसकि चूत के अनदर बहर करमा जरि रखा। उशा अपनि ससुर कि लुनद से अपनि चूत चुदवा कर बेहल हो रही थी और बरबरा रही थे, “आआह्हह्हह ससुरजीईए जोर्रर्रर सीई। हन्नन्न ससयरजीए जूर्रर्रर जूर्रर्र से धक्कक्काअ लगीईईईईई, और्रर्रर जूर्रर सीई चोदिईईए अपनि बहूउ कि चूत्तत्त को। मुझीई बहूत्तत्त अस्सह्हह्हाअ लाअग्गग रह्हह्हाअ हैईइ, ऊऊओह्हह्ह और जुर से चोदो मुझे आआह्हह्ह सौऊउर्रर्रजीए और जोर से करो आआअह्हह्हह्हह्हह्ह और अनदेर जोर सै। ऊऊओह्हह्ह दीआर्रर ऊऊओह्हह्हह्ह ऊऊऊफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ आआह्हह्हह आआह्हह्हह्ह ऊउईईई आअह्हह्हह ऊऊम्मम्माआआआह्हह्हह्हह्हह ऊऊऊओह्हह्हह्हह।"
.......................................

A woman is like a tea bag - you can't tell how strong she is until you put her in hot water.

User avatar
Fuck_Me
Platinum Member
Posts: 1107
Joined: 15 Aug 2015 03:35

Re: sex story arena - उशा की कहानी - hindi sex story

Unread post by Fuck_Me » 27 Dec 2015 04:00

थोरि देर तक जोर जोर धक्को से अपने बहु चूत चोदने के बद गोविनदजी ने अपना धक्कोन कि रफ़तेर धेमे कर दिया और उशा कि चुमचेओन को फिर से अपने हथोन मे पकर कर उशा से पुचा, “बहु कैसा लग रहा अपने ससुर का लुनद अपनि चूत मे पिलवा कर?” तब उशा अपनि कमर उथा उथा कर चूत मे लुनद कि चोत लेति हुइ बोलि, “ससुरजी अपसे चूत चुदवा कर मैं और मेरि चूत दोनो का हल हि बेहल हो गया है। आप चूत चोदूनीई मे बहुत एक्सपेरत्तत्तत हैन्नन्नन बदाअ मजा आ रहा है मुझे ससुरजी ऊओह्हह्हह ससुरजी आप बहुत अच! छा चोदते हैन आआह्हह्हह्ह ऊऊऊह्हह्हह्हह्हह्ह। ऊऊओफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ ससुरजी आप बहुत हि एक्सपेरत हैन और अपको औरतोन कि चूत चोद कर औरतोन को सुख देना बहुत अस्सह्हीए तरह से आत्ता हैन। मुझे बहुत अस्सह्हा लग रहा है ययून्न ही हान सौरजीई यून्न ही चोदो मुझे आप्पप्प बाहुत अच्चहे हो बास्स ययून हि चोदै करो मेरि ऊओह्हह्हह्हह खूब चोदो मुझे। गोविनदजी भि उशा कि बतोन को सुन कर बोले, “ले रनदि, चिनल ले अपने चूत मे अपसने सौर के लुनद का थोकर ले। आज देखतेन है कि तु कितनि बरि चिनल चुद्दकर है। आज मैं तेरि चूत को अपने हलवी लुनद से चोद चोद कर भोसरा बना दुनगा। ले मेरि चुदक्कर बहु ले मेरा लुनद अपनि चूत से खा।” गोविनदजे इतना कह कर फिर से उशा कि चूत मे पना लुनद जोर जोर से पेलने लगे और थोरि देर के अपना लुनद जर तक थनस कर अपनि बहु कि चूत के अनदर झर गये। उशा भि अपने सौर कि लुनद को चुतौथा उथा कर अपनि चूत से खती खती झर गयी। थोरि देर तक दोनो ससुर और बहु अपनि चुदै से थक कर सुसत परे रहे।

थोरि देर के बद उशा ने अपनि अनख खोलि और अपने ससुर और खुद को ननगी देख कर शरमा कर अपने हथोन से अपना चेहेरा धक लिया। तब गोविनदजी उथ कर पहले बथरूम मे जा कर अपना लुनद धो कर सफ़ करने के बद फिर से उशा के पस बैथ गये और उसकि शरेर से खेलने लगे। गोविनदजी ने अपने हथोन से उशा का हथ उसके चेहेरे से हथा कर अपने बहु से पुचा, “कयोन, चिनल चुद्दकर रनदी उशा मज़ा अया अपने ससुर के लुनद से अपनि चूत चुदवा कर? बोल कैसा लगा मेरा लुनद और उसके धक्के?” उशा अपने हथोन से अपने ससुर को बनध कर उनको चुमते हुए बोलि, “बबुजी अपका लुनद बहुत शनदर है और इसको किसि भि औरत कि चूत को चोद कर मज़ा देने कि कला अति है। लेकिन, सुबसे अस्सह्हा मुझे अपका चिदते हुए गनदी बत करना लगा। सुच जब आप गनदी बत करते हैन और चोदते है तो बहुत अस्सह्हा लगता है।” गोविनदजी ने अपने हथोन से उशा कि चुनची को पकर कर मसलते हुए बोले, “अरे चिनल, जा हुम गनदा कम कर रहेन हैन तो गनदी बत करने मे कया फ़रक परता है और मिझको तो चुदै के समय गली बकने कि अदपत है। अस्सह्हा अब बोल तुझे मेरा चुदै कैसी लगी? मज़ा आय कि नही, चूत कि खुजली मेती कि नही?” उशा ने तब अपने हथोन से अपने ससुर का लुनद पकर कर सहलते हुए बोलि, “ससुरजी अपका लुनद बहुत हि शनदर है और मुझे अपसे अपनि चूत चुदवा कर बहुत मज़ा आया। लगता है कि अपके लुनद को भि मेरि चूत बहुत पसनद आया। देखेये ना अपका लुनद फिर से खरा हो रहा है। कया बत एक बर और मेरि चूत मे घुसना चहता है कया?” गोविमदजी ने तब अपने हथ उशा कि चूत पर फेरते हुए बोले, “सलि कुतिअ, एक बर अपने ससुर का लुनद खा कर तेरि चूत का मन नही भरा, फिर से मेरा लुनद खना चहती है? थीक है मैं तुझको अभि एक बर फिर से चोदता हुन।”

गोविनदजी कि बत सुन कर उशा झत से उथ कर बैथ गयी और अपने ससुर के समने झुक कर अपने हथ और पैर के बल बैथ कर अपने ससुर से बोलि, “बबुजी, अब मेरि चूत मे पीचे से अपना लुनद दल कर चोदिअ। मुझे पीचे से चूत मे लुनद दलवने मे बहुत मज़ा आता है।” गोविनदजी ने तब अपने समने झुकि हुए उशा किए चुतर पर हथ फेरते हुए उशा से बोले, “सलि कुत्ती तुझको पीचे से लुनद दलवनव मे बहुत मज़ा आता है? ऐसा तो कुतिअ चुदवती है, कया तु कुतिअ है?” उशा अपना सिर पीचे घुमा कर बोलि, “हन मेरे सोदु ससुरजी मय कुतिअ हुन और इस समय आप मुझे कुत्ता बन कर मेरि चूत चोदेनगे। अब जलदी भि कतिये और शुरु हो जैअ जलदी से मेरि चूत मे अपना लुनद दलिये।” गोविनदजी अपने लुनद पर थुक लगते हुए बोले, “ले रेनि रनदी बहु ले, मैं अभि तेरि फुदकती चूत मे अपना लुनद दल कर उसकि खबर लेत हुन। सलि तु बहुत चुद्दकर है। पता नहीन मेरा बेता तुझको शनत कर पयेगा कि नही।” और इतना कहकर गोविनदजी अपने बहु के पीचे जकर उसकि चूत अपने उनगलिओन से फैला कर उसमे अपना लुनद दल कर चोदने लगे। चोदते चोदते कभि कभि गोविनदजी अपना उनगली उशा कि गनद मे घुसा रहेन थे और उशा अपनि कमर हिला हिला अपनि चूत मे ससुर के लुनद को अनदर भर करवा रही थी। थोरि देर के चोदने के बद दोनो बहु और सौर झर गये। तब उशा उथ कर बथरूम मे जकर अपना चूत और झनगे धोकर अपने बिसतर पर आकर लेत गयी और गोविनदजी भि अपने कमरे जकर सो गये।

अगले हफ़ते रमेश और उशा अपने होनेयमून मनने अपने एक दोसत, जो कि शिमला मे रहता है, चले गये। जैसे हि रमेश और उशा शिमला ऐरपोरत से बहर निकले तो देखा कि रमेश का दोसत, गौतम और उसकि बिबि सुमन दोनो बहर अपनि सर के सथ उनका इनतेज़र कर रहेन हैन। रमेश और गौतम अगे बरज कर एक दुसरे के गले लग गये। फिर दोन ओने अपनि अपनि बिबिओन से इनत्रोदुसे करवा दिया और फिर सर मे बैथ कर घर कि तरफ़ चल परे। घर पहुनच कर रमेश और गौतन दरविनग मे बैथ कर पुरनी बतो मे मशगूल हो गय और उशा और सुमन दुसरे कमरे मे बैथ कर बतेन करने लगे। थोरि देर के बद रमेश और गौतम अपने बिबिओन को बुअकर उनसे कह कि खना लग दो बहुत जोर कि भुक लगी है। सुमन ने फता फत खना लगा दिया और चरोन दिनिनग तबले पर बैथ कर खने लगे। खना खते वकी उशा देलह रही थी कि रमेश खमा खते वकत सुमन को घुर घुर कर देख रहा है और सुमन भि धिरे धिरे मुसकुरा रही है। उशा को दल मे कुच कला नज़र अया। लेकिन वो कुच नही बोलि।

अगले दिन सुबह गौतम नहा धो कर और नशता करने के बद अपने ओफ़्फ़िसे के लिये रवना हो गया। घर पर उशा, रमेश और सुमन पर बैथ कर नशता करने के बद गप लरा रहे थे। उशा आज सुबह भि धयन दी कि रमेश अभि भि सुमन को घुर रहा है और सुमन धिरे धिरे मुसकुरा रही है। थोरि देर के बद उशा नहने के लिये अपने कपरे ले कर बथरूम मे गयी। करीब अधे घनते के बद जब उशा बथरूम से नहा धो कर सिरफ़ एक तौलिअ लप्पेत कर बथरूम से निकली तो उसने देखा कि सुमन सिरफ़ बलौसे और पेत्तिसोअत पहने तनगे फैला कर पनि कुरसी पर फैली अधे लेति और अधे बैथी हुए है और उसकि बलौसे के बुत्तोन सब के सब खुले हुए है रमेश झुक कर सुमन कि एक चुनची अपने हथोन से पकर चुस रहा है और दुसरे हथ से सुमन कि दुसरी चुनची को दबा रहा है। उशा एह देख कर सन्न रह गयी और अपनि जगह पर खरि कि खरि रहा गयी। तभि सुमन कि नज़र उशा पर पर गयी तो उसने अपनि हथ हिला कर उशा को अपने पस बुला लिया और अपनि एक चुनची रमेश से चुरा कर उशा कि तरफ़ बरहा कर बोलि, “लो उशा तुम भि मेरि चुनची चुसो।” रमेश चुप चप सुमन कि चुनची चुसता रहा और उसने उशा कि तरफ़ देलहा तक नही। सुमन ने फिर से उशा से बोलि, “लो उशा तुम भि मेरि चुनची चुसो, मुझे चुनची चुसवने मे बहुत मज़ा मिलता है तभि मैने रमेश से अपनि चुनची चुसवा रही हुन।” उशा ना अब कुच नही बोलि और सुमन कि दुसरी चुनची अपने मुनह मे भर कर चुसने लगि।

थोरि देर के बद उशा ने देखा कि सुमन अपना हथ अगे कर के रमेश का लुनद उसके पैजमे के ऊपेर से पकर कर अपनि मुथि मे लेकर मरोर रही है और रमेश सुमन कि एक चुनची अपने मुनह मे भर कर चुस रहा है। अब तक उशा भि गरम हो गयी थी। तभि सुमन ने रमेश का पैजमे का नरा खीनच कर कजखोल दिया और रमेश का पैजमा सरक कर नीचे गिर गया। पैजमा को नीचे गिरते हि रमेश ननगा हो गया कयोनकी वो पैजमे के नीचे कुच नहि पहन रखा था। जैसे हि रमेश रमेश ननगा हो गया वैसे हि सुमन अगे बरह कर रमेश का खरा लुनद पकर लिया और उसका सुपरा को खोलने और बनद करने लगी और अपने होथोन पर जीव फेरने लगी। एह देख कर उशा ने अपने हथोन से पकर कर रमीश का लुनद सुमन के मुनह से लगा दिया और सुमन से बोलि, “लो सुमन, मेरे पति का लुनद चुसो। लुनद चुसने से तुमहे बहुत मज़ा मिलेगा। मैं भि अपनि चूत मरवने के पहले रमेश का लुनद चुसती हुन। फिर रमेश भि मेरि चूत को अपने जीव से चत्ता है।” जैसे हि उशा ने रमेश का लुनद सुमन के मुनह से लगया वैसे हि सुमन ने अपनि मुनह खोल कर के रमेश का लुनद अपने मुन मे भर लिया और उसको चुसने लगी। अब रमेश अपना कमर हिला हिला कर अपना लुनद सुमन के मुनह के अनदर बहर करने लगा और अपने हथोन से सुमन कि दोनो चुनची पकर कर मसलने लगा। तब उशा ने अगे बरह कर सुमन कि पेत्तिसोअत का नरा खोल दिया। पेत्तिसत का नरा खुलते हि सुमन ने अपनि चुतर कुरसी पर से थोरा सा उथा दिया और उशा अपने हथोन से सुमन कि परत्तिसोअत को खीनच कर नीचे गिरा दिया। सुमन ने पेत्तिसोअत के नीचे पनती नही पहनी थी और इसलिये पेतीसोअत खुलते हि सुमन भि रमेश कि तरह बिलकुल ननगी हो गयी।
.......................................

A woman is like a tea bag - you can't tell how strong she is until you put her in hot water.