दामिनी compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit pddspb.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: दामिनी

Unread post by rajaarkey » 20 Dec 2014 08:27



Daamini--31

gataank se aage…………………..
Main to jaise is pal ka intezaar hi kar raha tha ..maine unhein unko apni bahon mein leTe hue apni god mein liya ..MAMMI mere gale ko apne hathon se jakadte hue mujh se chipak gayin ..maine unhein uthaya aur thodi hi door par paDe bed par leeta diya.

Ufffffff .kya bataoon Daamini raani ..pooja ka asar thaa ..yah phir pata nahin kya baat thee ..hum donon ek doosre ke liye pagal ho rahe THE .....man kar raha tha MAMMI ko apne se itni joron se chipaka loon ke bas unke andar hi samaan jaoon ...mera lauDa phir se tannayya tha ....hil raha tha ..itna kadak tha ..aur MAMMI ko jaise maine beestar par leetaya ..unhone apni tangein phaila dee aur bahein phailate hue tadapte hue mujh se kaha :

" Beta aa ja ..aa ja ab der mat kar ..meri bahon mein aa ja na ....uffffff ...main mar jaaungi ...mera ek ek ang tumhare liye tadap raha hai ......aa ja ...aa ja mere bete ..."

Unki awaaz mein itni kashish ...tadap aur pyaar tha ..main bilkul koodate hue unke tangon ke beech apni janghein rakhta hua un se buri tarah chipak gaya .....mera tannaya lauDa upar se hi unki cheekni choot ko joron se daba raha tha .... aur maine apne honth unke honthon se lagata hua unhein choosne laga ,,mano unhein aam ki tarah choos jaoonga ..MAMMI ne bhi meri peeth ko jakadte hue aur bhi kheench lliya apni taraf ..hamari sansein takra rahee thee ....buri tarah ek doosre ko choos rahe THE ...ek doosre ko bheenche ja rahe THE ..jor aur jor ..jaise MAMMI mujhe aur main MAMMI ko apne andar lene ki lagatar koshish mein lage THE ..

Unki chuchiyaan mere seene se aisi chipakee thi ke sponge ki tarah cheepti ho gayeen thi ...hum ek doosre ko chaaT rahe THE ..choom rahe THE .choos rahe THE ur MAMMI mere neeche tangein phaila phaila kar , tangon se mere chuTaD jakad jakad mere louDe ko choot mein andar lena chah raheen Thi ..par mujhe to MAMMI ka poora swad lena tha ....apni Maan ka swad ..kitna meetha ..amrit agar hota hoga to bas MAMMI ke munh ke taste jaisa ......phhir main unki tangon ke beech aa gaya aur unki choot phailata hua apne honthon se unki choot jakad lee aur dussehri aam ki tarah choosne laga ......aaaaaaaaaaaaaah ...Daamini ...unke choot ke andar se mera virya , doodh aur chandan aur unka ras sab ek saath mere munh mein pichkari ki tarah ghus gaye ..itni joron se maine choosa tha ....ye bhi ek alag hi taste thaa ...shayad amrit se bhi badh kar ...

MAMMI ki chuTaD uchaal rahhee thee .unki tangein kanp uthee aur weh chilla uthee " Abhiiiiii ...aaaaaaaaaaaaaaaaah ......ooooooooooh bas bas beta bas ......aur nahin ....ab chod Daalo bete raja ..tumhari choot hai ..ab to teri hai mere raja .....chodo na .....ufffffff "

Unki awaazon se mera lauDa aur bhi tanna gaya tha ..dard sa ho raha tha ..par main Maan ka amrit choos raha tha ..use apne andar sama raha tha aur MAMMI tadap rahhee thee ...bar bar chuTaD uchaal rahee thee ..tangein jakad rahee THEe ..aur main lagatar unki choot choose ja raha tha ...uffff Maan ko choosne ka itna maza kyoon hota hai Daamini ....tumhein bhi main aise hi choosunga ...han Daamini ....ufff ..man nahin bharta ..

MAMMI sehan nahin kar sakeen aur unka chuTaD upar aur upar hawa mein uthta gaya ..aur mere munh ke andar unke ras ka phawwara choot raha tha ..main peete ja raha tha ....poore ka poora ....MAMMI shant ho gayeen ..par mera lauDa jaise jad se ukhadne ki tarah kadak ho gaya tha

Ab maine MAMMI ki chuTaD uthate hue unke ras se sarabor choot ke andar apna lauDa Daalte hue ek jhaTke mein hi andar pel diya aur unhein jakadte hue , unki chuchiyaan chooste hue jordar dhakke lagane laga ..hae dhakke mein MAMMI " haai haai ...mar Daalo ..phaad Daalo .." ki rat lagatee jatee ..main pagal tha ..madhosh tha .....pagalon ki tarah unhein chode ja raha tha ....chode ja raha tha ....uuffff .....sataasat ..fatchafatch ....."Han beta ...ye choot tumhari hai ..uffff ,..han ..haaan joron se chod ..chod ...."

Aur main unhein buri tarah jakad liya ....unse chipak gaya unhone bhi mujhe apni bahon se chipaka liya apne seene se ..aur mera lauDa unki choot mein itni tez dhar marte hue jhad raha thaa ..unka ek ek ang sihar utha ..maine unhein jakad rakha tha ..phir bhi unka poora badan kanp raha tha meri bahon mein .......

unke choot ka ek ek kona mere virya ki dhar se phadak raha tha ..main apne louDe par mehsoos kar raha tha unki choot ka phadakna ...unka jhadna ...

Hum donon ek doosre se chipake lambi lambi sansein leTe hue leTe THE ...

Ek doosre ko apne andar mehsoos kar rahe THE .....ye tha shayad lund aur choot ka sampurna milan ....



Bhaiyaa ka E-mail paDhne ke baad meri to buri halat thee ...paDhte paDhte hi meri choot se lagatar pani rees raha tha ....ankhein bhi bhar ayeen thi ...han Bhaiyaa ke MAMMI aur mujh se be-intaha pyaar se ..kitna pyaar thaa unhein hum se ....

Mere saath bhi ling pooja karna chahte the...main to sirf is soch se hi sihar uTHEe thee ...main unka lund apni choot mein liye doodh aur chandan se ghisai karoongi...ufffff ...mujhe itna romanch hua ...main jhaDane lagi ...

Mujhe Bhaiyaa ki bahut yaad aa rahee thee ..aur MAMMI ki bhi ...maine soch liya thaa aaj sham ko Papa se ghar wapas jane ko boloongi ...mujh se ab bardasht nahin ho raha thaa ...Bhaiyaa ke lund ke bina meri choot bilkul khali khali sa lagta thaa ...

Maine dekha ghadi mein 12 baj chuke THE ..maine cmptr off kiya aur bathroom chali gayi ..choot achhee tarah saf kiya ....kitni geeli ho gayee thee ..janghon tak cheepcheepa ho gaya tha ..

Nahane ke baad lunch order kiya aur phir lunch le kar so gayi...

Achanak meri neend khool gayi...dekha phone ki ghanti baj rahee thee ..maine phone uthaya , Bhaiyaa ki awaaz aayi

" Arre Daamini main kitni der se ring kar raha hoon..kahan thi ..? Sab theek to hai na..??"

" Main yein thee Bhaiyaa..jara ankh lag gayee thee ..wahan kya haal hai..MAMMI kahan hain ..?"

" MAMMI apne room mein so rheen hain ..kal ki tabadtod chudaai ke baad mast so raheen hain .."

"Han wo to hai ..ufffff .Bhaiyaa kitna maza aaya hoga na lling pooja mein ...main to sirf paDh ke masr ho gayee ...Bhaiyaa mere saath bhee tumhare lund ki pooja hogi ..."

"Are han Daamini bilkul hogi meri raani ..tum aa to jao ..kab tak aaogi..? Main bahut miss kar raha hoon ...tere bina bilkul achha nahin lagta Daamini ..plzz jaldi aa jao .."

"Mera bhi yei haal hai Bhaiyaa ..bas tumhare lund ke bina main bhi tadap raheen hoon ..meri choor bilkul khali khali hai mere raja Bhaiyaa ...man karta hai abhi wahan pahunch jaoon aur tumhare lund ke upar baith jaoon .....ufff kitna kadak rehta hai tumhara lauDa ..."

" Han Daamini tumhari choot bhi to kitni tight rehti hai ..jab tak tumhari choot nahin milti na meri raani bahanaa ..mere louDe ki bhi bhookh nahin mit ti ..aa jaao rani ..bas ab aur der mat karo ..."

" Han Bhaiyaa main aaj hi Papa se jane ko bolti hoon ..."

" Theek hai ..are han ye Salil kaun hai Daamini..??"


" Are mere college ka dost hai...kyoon kya hua ..?? "

" Aaj thodi der pehle yahan aaya tha .. MAMMI us samay jageen thi ...tumhare baare pooch raha tha ..MAMMI is impressed ...kaphi handsome hai ....kuch chakkar waquar to nahin hai na...aur agar hai bhi to don't worry ....MAMMI bol rahee thee kaphi seedha saadha hai....agar aise ladke se teri shadi ho jaye to phir use bhi hum apne saath mila sakte hain ..."

" OOOOOh Bhaiyaa ....this is great......mujhe aane do main ek din use laoongi aur phir MAMMI us se achhe tarah bat kar lein ....agar jaisa MAMMI soch raheen hain ..ho jaye to phir kitna achha rahega ...oooh ....bas ab aur nahin main to kal wahan aaongi hi aaoongi ..bhale Papa nahin aayein ...."

" Han Daamini ..kitna achha rahega ....ok phir tu Papa se baat kar le aur kal hi aa ja ....main phone rakhta hoon ..bye ...muaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaah "

" Muaaaaaah ..muaaaaaaah Bhaiyaa ..love you soooooo much " Aur maine bhi phone rakh diya.


Sham ko jaise hi Papa aaye ..main unse lipat gayi ...aur un se kaha " Papa ....mujhe MAMMI aur Bhaiyaa ki bahut yaad aa rahee hai ...mujhe ghar jana hai .."


"Ha .haa ,"unhone bhi mujhe apni bahon se jakad liya aur mujhe choomte hue kaha " Main janta hoon Daamini ..tum donon Bhai Behen kitna pyaar karte ho....maine kal subah ki flight se booking kara li hai ..mera bhi ab yahan ka kam poora ho gaya hai... "

Aur unhone mujhe apni god mein utha liya aur sofe par baith gaye ... main unke god mein unke lund se khel rahee thee .aur wo meri choochiyon se ...aaise hi hum ne chai pee .. aur phir kal subah jane ki taiyaari mein mein lag gaye ...

kramashah……………………..


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: दामिनी

Unread post by rajaarkey » 21 Dec 2014 12:05

दामिनी--32

गतान्क से आगे…………………..

घर जाने से ज़्यादा मुझे भैया से मिलने की खुशी ज़्यादा हो रही थी ..हम सिर्फ़ तीन या चार दिन ही अलग थे , पर ऐसा लग रहा था जैसे कितना अरसा हो गया उन से मिले...उनके सीने से लग उनकी बाहों में चिपकने को मैं पागल हो रही थी ..उफ्फ ...मेरी चुचियाँ उनके सीने से लगने को फडक उठी थी .....उनकी याद से निपल्स कड़क हो गये थे ....बस अब तो ये हाल था के कैसे घर पहुँचू और भैया को बीस्तर में लीटा उन्हें उछल उछल कर चोद दूँ ....

हम सुबह तड़के ही होटेल से चेक आउट हो गये ...होटेल की कार से एर पोर्ट और फिर एक घंटे के बाद हम अपने सहर के एर पोर्ट में लॅंड कर रहे थे..

लगेज कलेक्ट कर बाहर निकले हम दोनों....मेरी निगाहें दौड़ रही थी ...किसी को ढूँढ रहीं थी ..भीड़ में उसे ....और वो दीखे भैया हाथ हिलाते हुए ....मैं लगेज ट्रॉल्ली छोड़ते हुए उनकी ओर भागती हुई उन्हें अपने गले से लगा लिया.....उन्होने भी अपनी बाहों में जकड़ते हुए अपने चौड़े सीने से लगा लिया ;

" भैया ...भैया ....मैने बहुत मिस किया आप को ....."

"हाँ दामिनी मैने भी " मेरी जीन्स के उपर उनका लौडा चुभ रहा था ..

मैं झूम उठी इस मदभरी चूभन से ...

"अरे बाबा दोनों भाई -बहेन अपना सारा प्यार यही दीखाएँगे या घर भी चलना है..??" मम्मी ने मेरे गालों को हथेली से जकड़ते हुए कहा ...

और फिर हम दोनों अलग हुए और बाहें थामे कार की ओर चल पड़े ..

घर पहुँचते ही मम्मी और पापा तो अपने कमरे में चले गये ..मम्मी भी पापा के लिए बहुत पागल थी , उन दोनों का आपस में अभी भी इतना प्यार था ..कमरे में जाते ही उन्होने दरवाज़ा बंद कर लिया ..

फिर क्या था ...भैया ने मुझे अपनी गोद में उठाया और अपने कमरे में मुझे पागलों की तरह चूमते हुए बीस्तर पर लीटा दिया

"उफ़फ्फ़ दामिनी...मेरी रानी बहना ....बस अब और मुझे छोड़ कर मत जाना ..मैं मर जाऊँगा ..मेरी बहना ...मैं मर जाऊँगा ...."

बार बार मुझे चूम रहे थे और कहते भी जा रहे थे ...मेरे गालों को. मेरे चूचियों को , मेरे गले पर ...जहाँ भी मन करता मुझे चूमे जा रहे थे और मैं उनके इस प्यार की गंगा में नहा रही थी ..मेरा रोम रोम उनके इस प्यार से सिहर उठा था ...उनके एक एक हरकत से , उनके मेरे बदन छूने से प्यार टपक रहा था ..मैं निहाल थी ..

"हाँ भैया .हाँ ...मैं अब कभी भी आप को नहीं छोड़ूँगी...मैं भी तो कितनी पागल हो रही थी आप के लिए .." मैने भी उनसे और , और , और जोरों से चिपकते हुए कहा ...मैने अपने पैर उनकी चूतड़ के उपर दबाते हुए उन्हें जाकड़ लिया था और अपने हाथ उनकी गर्दन के चारों ओर ले जाते हुए अपने से बुरी तरह चिपका लिया ...

उनका लौडा इतना कड़क था ..मेरी चूत में जीन्स के उपर से ही लगता था घुस जाएगा ... हम दोनों एक दूसरे को बस पागलों की तरह चूसे , चाटे और चूमते जा रहे थे

मैं उठी और उनके पॅंट का ज़िप खोल दिया ...अपनी जीन्स और पैंटी भी उतार दी ...उनके मुँह की तरफ मेरी चूत रखते हुए उनके लौडे को अपने हाथों से थाम लिया ..उसे चूमने लगी ..अपनी आँखों के उपर लगाती रही ...

" ओह्ह्ह ऊवू मेरे प्यारे प्यारे लौडे ..अब कभी मेरी चूत से अलग नहीं होना ..समझे ..?" और मैने उनके खड़े लौडे पर हल्की थप्पड जड़ दी ..और पूरे का पूरा अपनी मुँह के अंदर लेते हुए चूसने लगी ...

भैया सिहर उठे ....उन्होने मेरी चूत को अपनी उंगलियों से जकड़ते हुए मुँह में ले लिया और इतने जोरों से चूसा ..मेरा बहता हुआ रस सीधा धार मारता हुआ उनके अंदर जाने लगा ..लगातार..

मैं भी उनके लौडे को जोरों से सहलाते हुए चूसे जा रही थी ..जैसे मैं कितनी भूखी थी ...

हम दोनों सही में एक दूसरे के लिए पागल थे...बस चूस रहे थे ..चाट रहे थे..

भैया का बुरा हाल था

"हाँ ..हाँ मेरी रानी ..मेरी बहना ...उफफफफ्फ़ .....चूस ले ..खा ले ....मेरा पूरा लौडा ...हाँ मेरी जान ..पूरे का पूरा .....उफफफ्फ़ ..आज कितने दीनो बाद तेरी चूत का स्वाद ले रहा हूँ .....हाँ मेरी दामिनी ...हाँ चूस चूस और ज़ोर से चूस ..."

मैने इतने जोरों से उनके लौडे पर जीभ फिराते हुए उसे चूसा ..उनके लौडे ने मेरे मुँह में पिचकारी छोड़ दी .मैने अपने हाथों से उसे जाकड़ लिया और मुँह के अंदर ही झट्के पर झटका लेती रही ..मेरा पूरा मुँह भर गया था उनके वीर्य से ....और मैं चूतड़ उछल उछल कर उनके मुँह में झाड़ रही थी ..

दोनों एक दूसरे के भूखे अपने अपने बदन का रस निकाल निकाल कर पीलाए जा राहे थे ... एक दूसरे में समाए जा रहे थे ....मैं उनका लंड हाथों से थामें अपने मुँह में अंदर रखे उन के उपर निढाल थी और अपनी चूत उनके मुँह पर रखे अपना रस उन्हें पीलाए जा रही थी ..पिलाए जा रही थी ... ना जाने कब तक हम दोनों ऐसे ही एक दूसरे को पी रहे थे ....एक दूसरे का रस अंदर ले रहे थे ..अपनी अतृप्त भूख मिटाने की कोशिश में जुटे थे....

भैया का मुरझाया लंड मेरे मुँह में था..पर मैं उसे अपनी हथेली से पुच्कार्ते हुए धीरे धीरे चूसे जा रही थी ..उसका एक एक बूँद वीर्य मैं अपनी जीभ से चाट ती जाती...कितने दिनों बाद मिला मुझे इस अमृत जैसे रस का स्वाद ..उधर भैया भी मेरी चूत से रीस्ते पानी को सतासट जीभ से चाटे जा रहे थे ..

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: दामिनी

Unread post by rajaarkey » 21 Dec 2014 12:05

उनका लौडा मेरे मुँह के अंदर ही कड़ा और कड़ा होता जा रहा था ..मुँह के अंदर लौडे का कड़ा होना .उफफफ्फ़ ये भी एक अजीब ही तज़ुर्बा है....वो भी ऐसा वैसा लंड नहीं .....मेरे भैया का लंड ..मोटा और लंबा ...मुझे लगा जैसे मेरे गले के अंदर उतर जाएगा ...मैने अपने थ्रोट को आगे कर लिया और अपने हथेली से जकड़ते हुए अपने कंठ से धीरे धीरे चोद्ना शुरू कर दिया ..मेरे कंठ से थूक और लार निकल कर उनके लंड को सराबोर कर रहे थे ...

भैया तड़प उठे ...उन्होने अपना लंड बाहर खींच लिया और सीधे होते हुए मुझे अपनी बाँहो में जाकड़ लिया ...और अपने लंड से मेरी चूत को उपर ही से घिसने लगे .बड़ी जोरों से मैं उछल पड़ी ...बुरी तरह मैं सिहर उठी ...मेरी चूत फडक रही थी उनके लौडे की घिसाई से

"अयाया भैया ..क्या कर रहे हो.......मैं मर जाउन्गि ....उईईइ .."

"दामिनी ..मेरी रानी बहना ..इतने दिनों बाद मेरी सब से प्यारी चूत मिली है मुझे ..मेरा लौडा कितना तडपा है ..आज इसे पूरी तरह तुम्हारी चूत को महसूस करने दो .अभी बाहर फिर अंदर ..उफफफ्फ़ ..दामिनी ...आख़िर मुझे तुम्हारी चूत इतनी पसंद क्यूँ है ....उफफफ्फ़ "

और उनका लौडा और जोरों से मेरी चूत के गुलाबी फाँक के अंदर मुझे घिस रहा था और मैं बार बार उछल रही थी ..मेरे चूतड़ हवा में लहरा जाते उनकी हर घिसाई से ...

" बस ...बस ..मेरे राजा भैया .....अब और नहीं मेरे राजा भैया ...उफ्फ और नहीं ...में और से नहीं सकती .....उईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई " मैं कांप रही थी उनके लौडे की घिसाई से ...मैने उनके लौडे को हाथ जाकड़ लिया और अपनी चूत के अंदर डालने की कोशिश की...

शायद भैया भी मेरी चूत की फांकों के स्पर्श से बहुत ज़्यादा एग्ज़ाइटेड थे ,उन्होने उतने ही जोरों से मेरे चूतड़ को जकड़ते हुए अपना लंड मेरी चूत में एक झट्के में ही पूरा डाल दिया ..

मेरा पूरा बदन सिहर उठा ...मैं चिल्ला उठी ....सिसकियाँ लेने लगी ....इतनी मस्ती से भर गयी थी मैं ....इतने दिनों तक ऐसे लंड से मैं दूर थी.

भैया धक्के पे धक्का लगाए जा रहे थे और मैं हर धक्के में कांप उठती ..सिहर उठती मेरा रोम रोम उनकी चुदाई का भूखा था ..आज जैसे सूखी ज़मीन पर वर्षा की झड़ी लगी थी ..

" हाँ मेरी रानी बहना ..लो ..लो और लो ..मेरा लौडा भी कितना भूखा था ...उफफफ्फ़ ..तेरी टाइट चूत .....अयाया ..."

और वो मुझे चोदे जा रहे थे , मैं उनके नीचे चुद रही थी ...

मुझे ऐसा लग रहा था मेरी चूत उनके लौडे के लिए ही है ..पूरी तरह ....उनका लौडा मेरी चूत के एक एक कोने को नाप रहा था ..मथ रहा था ...घिस रहा था ....और मैं अपनी चूतड़ उछाल उछाल कर हर धक्के में और , और अंदर लेने की कोशिश में जी जान से लगी थी ...

दोनों एक दूसरे की भूख मिटाने की पुरज़ोर कोशिश में थे ..लंड और चूत एक दूसरे की प्यास बूझा रहे थे ....इतना ज़्यादा चुदाई का ताल मेल था हम दोनों में ...

और फिर धक्का देते देते भैया मेरे से बुरी तरह चिपक गये ..मैने भी उन्हें अपनी बाहों से जाकड़ लिया . अपने पैरों से जाकड़ लिया ....उनका लौडा मेरे अंदर झट्के खा रहा था और मेरी चूत के अंदर दूर दूर अंदर तक पानी छोड़े जा रहा था ..इस गर्म धार से मैं उन्हें जकड़े जकड़े ही अपनी चूतड़ उछाल उछाल कर अंदर और अंदर लिए जा रही थी ....

दोनों पसीने से लत्पथ थे ...पसीना बह बह के एक हो रहा था ...मेरे सीने पर सर था उनका ...में उनका सर सहला रही थी .उन्हें अपने सीने से लगाई थी मैं मेरे भैया को ..मेरी जान को ...

इतनी चुसाइ और फिर तबड तोड़ चुदाई के बाद दोनों के अंदर तीन दिनों से सुलगती आग ठंडी हो गयी थी ..पर उसकी गर्मी अभी भी बरकरार थी ... प्यार इस आग की लपट से और भी पीघल पीघल कर अंदर समाए जा रहा था ..जितना ज़्यादा पीघलता उतना ही और अंदर घर कर लेता ..हम दोनों एक दूसरे की बाहों में खोए थे ...प्यार के रस से सराबोर ..

:" दामिनी .....??"उन्होने मेरे सीने में अपना सर रखे रखे ही मेरे बालों पर हाथ फेरते हुए कहा

"हाँ भैया ...??" मैं उनके चेहरे को अपने हथेली से थामते हुए कहा .

"हम दोनों क्या एक दूसरे को इतना प्यार करते हैं ..देखो ना सिर्फ़ तीन दिनों में ही ये हालत हो गयी हमारी .."

" हाँ भैया .लगता तो कुछ ऐसा ही है ..पर क्या ये ठीक है ..? "

" मैं भी यही सोच रहा हूँ बहना .....तुम्हारी शादी होगी .. ..फिर कैसे होगा ये सब >>?"

" शायद इसलिए तो मम्मी ने सलिल के बारे कहा था ... उसे भी हम अपने में मिला लें ..वो मुझ से बहुत प्यार करता है ..कुछ भी करेगा मेरे लिए .....और मम्मी भी तो कम नहीं ना ....सलिल को भी एक साथ ऐसे दो हसीनों का मज़ा कहाँ मिलेगा .....बस फिर हम दोनों का रास्ता साफ हमेशा के लिए .."

" मान ना पड़ेगा दामिनी ..तेरा दिमाग़ भी तेरी चूत के समान ही गहरा और हसीन है..."

और फिर हम दोनों आनेवाले हसीन पलों की याद में खोए , मुस्कुरा रहे थे और एक दूसरे की बाहों में एक दूसरे को महसूस कर रहे थे , चूपचाप एक दूसरे को निहारे जा रहे थे ..सिर्फ़ साँसों की आवाज़ आ रही थी ...

क्रमशः……………………..