चुदासी चौकडी compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit pddspb.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 05 Dec 2014 11:12

2
gataank se aage…………………………………….

Uska seena dhaunkni ke tarah mere seene se laga upar neeche ho raha thaa ....main bilkul bekhabar sa khoya thaa apni Maa ki bahon mein ... wo mujhe choom rhaee thee ..galon par .. maathe par .. balon par haath phira rahee thee ..main uske pyaar mein sarabor thaa , dooba thaa .... uska asar neeche hua ..meri janghon ke beech ...phir se akad gaya mera lund ..Maan ke pet se takra raha thaa ...Maa ko meri halat samajh mein aa gayee ..wo phauran alag ho gayee..uskee sans jor jor se chal rahee thee ..main bhi hanf raha thaa ... meri ankhon mein Maa ke liye tadap , bhookh aur ek ajeeb sa nasha thaa ..

Maa ki ankhon mein bhi woi sab thaa ..par saath mein thodi sharm aur jhijhak bhi thee ...

Shayad uski jindagi mein pehli baar kisi mard ne use itna pyaar aur sahara dete hue apni bahon mein liya thaa ... par bechari khul kar use apna nahin sakti thee ...uski khoti kismat wo mard uska beta thaa ...

Par use ye nahin maloom thaa ke uska beta asal mard thaa aur wo ek asal aurat ....aur uske bete ne man bana liya thaa use apni aurat banane ka ..haan apni poori ki poori aurat ..

Us samay meri ankhon mein wo hawas , nasha aur tadap gayab thee ..aur uski jagah pyaar , waadaa aur mar mitne ki khwahish ki jhalak thee ...

Maa ne meri taraf dekha ..meri ankhon mein use wo sab kuch dikha .... usne sar jhuka liya ...mano usne apni manjoori de di .....

Main khushi se jhoom uthaa ...main aagey badha ..Maa woin khadi thee ....sar jhukaaye ...

Tab tak Bindu aur Sindhu naale se aa gayee ...

Maa ne unhein dekhte hi jhat apna chehra theek kiya , aur unki taraf muskurate hue dekha aur kaha

" Bindu ...dekh beta ..main to ja rahee hoon kaam par ... tum dono chai pi lena Jaggu ko bhi chai pila dena aur kaam par jana ...theek hai na..??"

Aur jhopdi ke kone mein bane chulhe ki or chal padee chai banane .

" Haan Aai ..tu fikar mat kar ..sab ho jayega ..tu ja ... "

Thodi hi der baad Maa ne chai bana lee aur apni saaree theek karti hui jaldi jaldi chai pee aur bahar nikal gayee ...

Maine mug uthayaa ... dono bahano ki or dekha ... unke honthon par phir se badi shararti muskaan thee ..shayad unhone Maa ki jhuki jhuki ankhein aur sharm se bhare chehre ko taad liya thaa ...

Garibi insaan ko kaphi samajhdaar bana deti hai....

Aur main bhi muskurata hua naale ki taraf nikal gaya ....

Kuch der baad jab main wapas aayaa .. dono behenein us jhopdi ki ek hi tooti phooti khaat par , jis pe ki mera bap sota tha ..baithee theen ..kuch khusur pusar batein kar rahee thee aur meri taraf dekh muskuraye jaa rahee thee ...aur apni tangein khaat se latkaye hilaye ja rahee thee ...

Main unke pairon ke beech farsh par hi baith gaya ... aur apna ek haath Bindu ke ghutne par rakha aur doosra Sindhu ke ghutne par .halke se dabaya ..unka pairon ka hilna band ho gaya ..par hansi aur bhi badh gayee ..khas kar Sindhu ka ..jo shayad ghar mein sab se choti hone ke chalte sab se chulbuli thee ..

" Hmmmm..kya baat hai ...itni hansi ..?? Main kya koi joker hoon..itna hanse jaa rahee hai mere ko dekh ke..?"

Aur phir aur joron se apne haath unke ghutnon par dabaya ...

Jawaab Sindhu ne hi diya " Lo ab hansi par bhi koi rok hai Bhai..? UUuu Bhai apna haath to hatao na gudgudi hoti hai .." Aur phir unki hansi ne aur jor pakad lee ...

ab maine apna haath ghutne se upar le jaate hue unki jangh par rakha aur phir dabaya ...ufff kya mehsoos thaa..jaise kisi paw bhaaji wala paw(bread) meri mutthi mein ho ..

" Tu bata pehle kya baat hai .phir haath hataaungaa .." Maine kaha

Is baat par dono ki hansi to ruki ..par dono ek doosre ko dekh mand mand muskura rahee thee abhi bhi

Par mera haath abhi bhi waheen ke waheen thaa ...

" Chal jaldi bol ..warna mera haath abhi aur bhi aage aur upar jayega ...." Maine serious hote hue kaha

Bindu ne mauke ki nazakat samajhte hue kaha .." Achaa baba batati hun ..par tu haath hata na Bhai ...aise bhi koi Bhai apni bahano ko dabata hai kkya..??"

Bindu ki is baat par main thoda jhenp gaya ....

" Achaa le hataa diya ab bol.."

"Are baba chai peeni hai ke nahin ..pehle chai to pee lo Bhai, phir batein karenge ...main chai laati hoon ..." Aur Sindhu bolte hue uthee aur chai lane jhopdi ke kone ki or chal dee .

Main utha aur Sindhu ke jagah Bindu se sat kar baith gaya ... aur Bindu ke chehre ko apni or khichaaa aur pucha " Bol na re ..kya baat hai...?"

" Are kuch nahin Bhai ... kal se jane kyoon tum hamein bahut achhe lag rahe ho...raat ko tu ne Aai ko kitne achhe se sambhalaa aur hum dono ko bhi kitne pyaar se sulaya ..hum dono yei sab batein kar rhe the ..... "

Tab tak Sindhu bhi aa gayee thali par teen glass chai liye ..

" Haan BHai Didi theek hi to bol rahee hai ...pehle tum kitne chup rahte the ..."

Maine chai ka glass liya , ek ghoont liya aur kaha

" Haan re ...baat to sahi hai...lagta hai Bapu ke jane se ghar ka mahaul kaphi khula khula ho gaya hai ...pehle sala kitna tension rehta thaa ...jab dekho gaali galauz aur ladai jhagda ... "

Sindhu mere bagal baith gayee ..main dono ke beech thaa ..

" Par tum dono ko hansi kyoon aayee mujhe dekh..ye to bataa ..??" Maine phir se pucha ..

Bindu thoda sharma gayee ..uske gaal laal ho gaye ..us ne Sindhu ko dekha

" Are tu hi bata de na re Sindhu ..lagta hai Bhai aaj manega nahin ..."

Sindhu ne bhi chai ki ek ghoont andar lee . mujhe badi shararti ankhon se dekha aur kaha

" Bhai ...aaj subeh subeh tumhaare ko kya hua thaa ...??"

" Kya hua thaa...? Kuch bhi to naheen ..." Maine baukhlate hue kaha

" Par tere tangon ke beech kuch lamba sa ubhra ubhra kya thaa ...?"

" Hmmmmm..to ye baat hai ....are baba jab tum dono ki tarah pyaari aur khubsoorat ladkiyan mere dono or leti hon ....to agar mere tangon ke beech harkat na ho..ye to tum dono ke liye doob marne waali baat hui na .." aisa bolte hue maine Sindhu ko use kandhe se jakadte hue apne paas khichaa liya ..

Mera jawaab sun kar Bindu ke gaal to laal ho gaye ..par Sindhu par phir se hansi ka daur chadh baithaa ...

Main samajh gaya dono behenein kya chahti theen ...gareebi ke kuch phayde bhi hote hain ...

Itne dinon se hum sab ek hi kamre mein sote hain...mera bap meri Maa ki chudai bhi kisi kone mein waheen karta thaa ...Bindu aur Sindhu in sab banton ko dekhte ..parakhte hi jawan ho gayee theen ...unmein bhi ubaal aana shuru ho gaya thaa ...aur ab ye ubaal bahar aane ki koshish mein thaa ...

Main bhi akhir gabru jawan thaa ...teen teen haseen auraton ke beech ...meri bhi jawaani phat padne ki kagar par pahoonch chookee thee ...aur aaj subeh Maa ke saath wali baat ne aag mein ghee ka kaam kar diya thaa aur ab Bindu aur Sindhu ki baton se aag se lapat nikalne shuru ho gaye the ..

Maine Sindhu aur Bindu dono ko apne seene se laga liya ...unke mathe aur galon ko choomta hua kaha

" Wo tum dono ke liye mere pyaar ka izhaar thaa meri behnon ....." Maine bharraye gale se kaha .

ab Sindhu bhi serious ho gayee thee aur apna chehra mere seene se lagaye chup chap baithee thee .

Dono behene mere se lage chupchap apne Bhai ke chaude seene mein apne ap ko bahut mehfooz samajh rahee thee ...bahut sukoon tha unke chehre par ..aaj tak unhein apne bap se aisa pyaar aur sukoon nahin mila ..mard ka saya aur mardangee unse ab tak door thee ...wo sab unhein mujh se mil raha thaa ...

Hum teenon chup the aur ek doosre se leepte ek doosre ka saath aur pyaar mein khoye ..

Bindu ne chuppee todte hue kaha ..

" Haan Bhai hum samajhte hain ....tum bahut pyaar karte ho hum teenon se ..hai na..??" BIndu ne kaha ...

Maine Bindu ko apne aur kareeb khichaa liya use apni chaatee se lagaya ..Sindhu bhi aur chipak gayee ..." Haan meri bahano..mere liye tum dono behenein aur meri Maa ke siwa aur koi naheen ..tum sab meri jaan ho ..meri jaan .... main tum sab ke liye apni jaan de sakta hoon ..."

Sindhu ne jhat apne haath mere munh par rakhaa aur kaha

" Bhai ..jaan denewaali baat phir mat karna ..." Aur ab tak mere tangon ke beech phir se kadak ubhar aa gayee thee ...Sindhu ne use apne hathon se jakad liya " Agar dena hai to hamein tumhara ye lamba hathiyar de do aur hamari jaan le lo ... hain na Didi ...dekho na kaisa hil raha hai hamare pyaar mein .."

Us ne mere lund ko thaamte hue Bindu ko dikhaya ..

Bindu ne bhi use thaam liya par thoda hichkichaate hue ..thoda sharmate hue ...Sindhu ki pakad mein sakhtee thee aur Bindu ki pakad mein thodi hichkichahat aur narmi ...

Aur main ankhein band kiye apni dono bahano ke anokhe andaaz ke maze mein khoya thaa ..kanp raha thaa..

Tabhi Bindu ne ek jhatke mein apna haath hata liya ..aur peeche hat gayee ....jaise kisi gehree neend se achanak jaag gayee ho..

" Are besharam Sindhu..kuch to sharam kar ..ye tera apna Bhai hai ..re ..saga Bhai .."

" Haan ..haan abhi tak to tu bhi maje se thaamee thee ..kyoon..? maza naheen aaya..aur ab Bhai ki duhai de rahee hai..chal natak band kar ..main janti hoon tere ko....tu mujh se bhi jyaadaa chahti hai ....par bolti naheen ...main janti hoon...." Aur us ne mere lund ko upar neeche karna shuru kar diya aur kehti bhi jaati " Are aisa BHai aur aisa hathiyaar kismat walon ko hi naseeb hota hai .... dekh na re Bindu kitna phunphkar raha hai ...chal aa ja ...aaj kaam ki choottee karte hain ...."

Bindu ne bade pyaar se ek chapat lagaayee Sindhu ke gaal par " Saali badi badi batein karti hai ..kahan se seekhi re.....jaa tu bhi kyaa naam legi ....tu maze le main jaati hoon kaam par ....par kal ki baari meri rahegi ...aur haan Bhai ....jara sambhaal ke hum dono abhi bhi bilkul achoote hain ..tumhaare liye hi sambhal ke rakhaa hai hum dono ne jaane kab se.."

Aur Bindu ne mujhe bhi ek choommee di mere gaal par ..apne kapde theek kiye aur bahar nikal gayee .

Main to dono bahano ki batein sun sun ek baar to bhaunchakka reh gaya ..inhein meri koi parwah hi nahin thee ..bas apas mein hi bakar bakar batein kiye kiye sab kuch faisla kar liya.... jawaani bhi kya cheez hai bhaiyo...aur us se bhi badi jawaani ki bhookh ... is bhookh ki aag mein sab kuch jal kar khaak ho jata hai..rishton ke bandhan taar taar ho jate hain ...bas sirf ek hi rishta reh jata hai ..lund aur choot ka....aur jab usmein pyaar ke bhi rang aa jaye to maja aur bhi badh jata hai..phir ye sirf lund aur choot nahin balki do atmaaon ka milan ho jata hai.....lund aur choot apne apne raaste dono ke dilo-deemaag tak pahoonch jaate hain ....

Kuch aisa hi hua thaa hum sab ke saath..itne dinon hum pyaar , rishta aur apsi lagao se door bahut hi door the..par in do teen dinon mein apne beraham bap aur ek aurat ke jalim mard ki maut ne hum sab ko ek doosre ke bahut kareeb laa diya thaa....pyaar aur saath ka baandh , jo itne dinon tak ruka tha ..ab aisa phoota ke rukne ka koi naam hi nahin thaa ....aur hum ek doosre se sab kuch haasil karne ko jee jaan se machaal uthe the ...tadap rahe the hum sab ....

Isi tadap mein Sindhu aur Bindu ne hamein bhi shaamil kar liya thaaa ....apna sab kuch lootaane ko taiyyar ...apne Bhai par apna pyaar aur jawani lootane ko machal uthee thee dono ...

Sindhu khaat se uthee aur phauran darwaza band kar diya ..main abhi bhi khaat par baitha thaa ..apne tangein khaat se neeche latkaye ....Sindhu mere tangon ko apne dono tangon ke beech karte hue khadi ho gayee ...aur seedha meri ankhon mein dekhti rahee ....chup chap....chehre pe koi bhav nahin ..ek dum serious ...jaise us ne apne man mein kuch soch liya ho aur ab use poora karna hi hai ..chaahe kuch bhi ho....

" Aise kya dekh rahee hai Sindhu ...? " Maine baat shuru kee..

Sindhu ne meri or apna chehra jhukaya , meri god mein aa gayee aur mujh se lipat gayee ....mera chehra apne hathon mein liya use uthayaa aur mere dono galon ko baari baari se choomte hue kaha ..

" Bhai ..aaj pehli baar itne itminaan se tujhe dekh rahee hoon... tum kitne achhe ho Bhai ..kitne pyaare ho ...dekhne do na achhe se .... " Aur phir apni aankhein meri ankhon mein daal dee

Mera lund phir se kadak thaa aur uski janghon ke beech salaami de raha tha .....

Maine bhi uske chehre ko apne haath se thamaa , uske gaal choome , joron se ,

Aur kaha " Sirf dekhti rahegi ..? Kuch karegi nahin ..???"

Ab tak mera louDaa kaphi kadak ho chooka tha aur uski choot ko uske salwar ke upar se hi choom rahaa thaa ....Sindhu is naye aur bilkul nayab tazurbe se ek ajeeb hi nashe mein aa gayee thee ..

Us ne mere gale mein bahein dalte hue mere se aur bhi chipak gayee ..mere kandhon pe apna sar rakh diya ... phoosphoosati hui bharrayi awaaz mein kaha:

" Bhai ..main kya karoon ..? tu hi kar na ....."

main uski aisi bholi baaton se pagal ho uthaa ..uske kandhon ko thamta hua uske chehre ko apne chehre ke saamne kar liya ..uski ankhon mein dekha ..uski ankhein band thee ..mano use hamaare kuch karne ka badi besabri se intezaar ho ..

Maine uska chehra apne aur kareeb khichaaa ....dono ki sans ab takra rahe the ....uske honth kanp rahe the..mujh se raha nahin gaya ..maine uske seene ko apne seene se boori tarah chipaka liya uski chuchiyaan mere seene mein dabee thee ..uske kanpte honthon par maine apne honth rakh diye ....aur choosna chaalu kar diya ...ufffffffffff ..mera bhi ye pehla tazurba thaa ..kitna mulayam thaa uska honth ....kitna garm tha ... aaah

Sindhu mujh se aur bhi lipat gayee ..aur usne bhi mere honth choosne shuru kar diye ....hum pagal ho gaye the .....kisi ne kuch bataya nahin thaa ..pehle kabhi kuch kiya na thaa ..par sab kuch apne ap ho raha thaa ..hum betahasha ek doosre ko choome ja rahe the .munh apne ap khul gaya tha dono ka ..dono ke munh ek doosre ko kha jane ko ..ek doosre ke munh mein andar jane ko tadap rahe the...uffff kya pagalpan thaa ... uska thook mere munh mein ja rha thaa mera thook uske munh mein ....

Uske khule munh se mujhe uski jeebh dikhi..patli see jeebh ..gulabi jeebh ..maine apne honthon se uski jeebh pakad lee ..uffff kitna garm thaa ...kitna geela ..main uski jeebh choosne laga ..Sindhu tadap uthee ....uski choot ka geelapan mere lund par mehsoos ho raha thaa ...

Hum dono hanf rahe the .....lambi lambi sansein le rahe the ..kuch samajh nahin aa raha tha kya karein ...maine phir se use apne seene se lagaya ..uski chuchiyaan dhansi thee mere seene se ..mulayam par kadak bhi ..kasi kasi ..bina bra ke .....maine uske kurte ke button khole aur dono hathon se khichaata hua uski kamar tak utar diya ....

Aur maine bhi saath hi saath apna top bhi utaar diya ....Sindhu meri god mein hi dono tangein mere kamar se jakde khaat par kar diya thaa ..meri tangein khat se neeche latak rahee thee ...

Mera nanga seena , uski nangi choochiyon se bilkul chipaka tha ...hum ek doosre ko jitna ho sakta thaa..jitna mumkin thaa ..ek doosre se chipakaye the ..ek doosre mein andar tak ghoos jane ko bechain the ......

Maine apni hatheliyan dono ke seene ke beech ghoosedte hue uski mast chuchiyaan sehlane laga ....uski ghoondiyan ungliyon se daba raha thaa ....

"AAaaah Bhai ..dheere dabao na ...dard karta hai...." Usne mere hatheliyon ko apne haath se pakadte hue kaha ...maine dabana thoda halka kar diya aur us ne apne hathon ko mere sar se lagate hue apne chehre se lagaya aur phir se mere honth chumne aur choosne lagee ....

Hum dono chipaki thee ...ek doosre ko choom rahe the ..choos rahe the chaat rahe the ..ek dum pagal the ...

Mera lund pant phad kar bahar aane ko tadap raha thaa ..uski choot se lagatar paani rees raha thaa ...wo mere lund par apni choot ghees rahee thee .....aur is koshish mein thee use apni phuddi mein samaa le ......

Yeh pyaar bhii kya cheez hai kisi ko seekhana nahin padta ..bas apne ap hota jata hai ....

Main tadap raha thaa andar dalne ko wo betaab di andar lene ko..... aur is koshish mein ek doosre ko choos rahe the ..chaat rahe the aur leepte ja rahe the ...

Maine dheere se uski kan mein keha

" Sindhu tera salwaar utaar doon .??."

Us ne behoshi si awaaz mein kaha

" Bhai mat pucho....kuch bhi kar do....kuch bhi kar lo bhai ....aaaaaaaaah ...."

Aur us ne apni chutad upar kar lee ..maine uska nada khola aur salwaar neeche sarka diya ..wo mere gardan mein haath daale mere upar latak gayee uske pair hawa mein the , main use apne dono haathon se uski kamar ko lapete uthaaye rakha , aur us ne apne pair ko jhatka diya ...salwaar neeche farsh par geera....

Wo poori nangi mere seene se chipaki thee .apne pairon ko mere kamar ke charon or lapete ..ek bachhe ke samaa meri god mein ....

Bethasha choome ja rahee thee ..main use god mein liye liye hi uth gaya aur use neeche bistar par badi hifazat se lita diya ...

Apna pant bhi ek jhatke mein utar diya ..mera louDaa phunphkarta hua bahar aaya ....

kramashah…………………………………………..


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 06 Dec 2014 07:46

3

गतान्क से आगे…………………………………….

सिंधु की आँखें फटी की फटी रह गयीं ...मेरे लौडे को देख

मैं उसकी टाँगों के बीच खड़ा हो गया ...अपना लंड अपने हथेली से पकड़ सहलाने लगा और उसकी ओर कर दिया ..

"सिंधु..देख ले ....आज से ये तेरा है ....आज पहली बार जिस फुद्दि में जाएगा ना , वो तेरा है ..सिंधु ...."

और ऐसा कहते हुए मैं उसके उपर आ गया ....और अपने लौडे को उसकी जांघों के बीच दबाता हुआ उसे अपनी बाहों से जाकड़ लिया ..उसने अपने हाथ मेरी पीठ पर कर दिया ..और वो भी मुझ से चिपक गयी ..उसकी टाँगें मेरी पीठ पर थी ..हम हमेशा इस कोशिश में थे हम दोनो एक दूसरे में समा जायें ....

" हां भाई मेरी फुद्दि कितनी किस्मत वाली है ....भाई तुम रुकना मत .....बस आज चाहे मेरी जान निकल जाए ...तुम बिल्कुल परवाह मत करना ..हां भाई..? बस अंदर डालते जाना ..भाई रुकना मत ...ऊवू ...अया भाई ..ये क्या हो रहा है .....उफफफफफफ्फ़ " वो बोले जा रही थी ..अपनी चूतड़ हिला हिला कर अपनी फुद्दि मेरे लंड से घीस रही थी ......

मैं उसकी फुददी की मार से सिहर रहा था ..उसकी फांकों से मानो नदी बह रही थी ...

मैने उसे चूमा , उसके सीने , पेट , और नाभि को चूमता हुआ उसके जांघों के बीच आ गया

उसकी चूत पर छोटे छोटे बाल थे ..साँवली चूत ..उउफ़फ्फ़ क्या कयामत थी

ऐसी टाइट थी जैसे सिर्फ़ वहाँ एक चीरा लगा हो कोई भी गॅप नहीं ...दोनो होंठ सटे थे उसकी फुद्दि से पानी सा रीस रहा था ....

मैने अपनी जीभ वहाँ लगाई ...जीभ लगते ही सिंधु उछल पड़ी ...उसका चूतड़ उछल पड़ा ...मैने अपनी उंगलियों से उसकी फाँक अलग की ....गुलाबी फुद्दि ....उफ़फ्फ़ गीली फुद्दि ....मैने अपने होंठों से उसकी फुद्दि हल्के पकड़ ली और उसे चूस लिया ....

उसका खारा पानी मेरे मुँह के अंदर था .....सिंधु एक दम से उछल गयी ........कांप उठी ..उसके पैर थर थारा उठे ....

" भाई अब डाल दो ना ....क्यूँ तडपा रहे हो .....अंदर पता नहीं कैसा कैसा हो रहा है भाई ...आओ ना ..अंदर आओ ना ...."

ऐसा बोलते हुए उसने अपने हथेली से मेरे मोटे लंड को थाम लिया और अपनी चूत के बीच घीसने लगी जोरों से ..मानो खुद ही अंदर ले लेगी....

" ज़रा सब्र कर ना सिंधु .... ठहर मैं आता हूँ ...."

और मैं उठ कर जहाँ कपड़े टँगे रहते हैं वहाँ से एक तौलिया ले आया ...सिंधु की टाँगें उठाई और उसके चूतड़ के नीचे रख दिया ...और उसके चूतड़ उठाए तो ऐसा लगा मानो कोई रूई से भरा बहुत ही मुलायम तकिया हो ..मैने हल्के से दबाया ....और फिर उसे तौलिए पर गीरा दिया ..

" भाई तौलिया क्यूँ रखा ..??" उस ने बहुत ही धीमी और सुस्त आवाज़ में कहा

" बस तू देखती जा और धीरज रख बहना ..सब समझ में आ जाएगा ..."

' हां भाई ..तेरे को जैसा अच्छा लगे तू कर ना ..पर जल्दी कर भाई ..मुझे अंदर जाने कैसा लग रहा है..जल्दी ...आआआः जल्दी कर ना भाई ...." सिंधु सिसक रही थी , तड़प रही थी ...

मैं फिर से उसके उपर आ गया और फिर से उसे अपने सीने से बूरी तरह चिपका लिया और उसके होंठों से अपने होंठ लगाए फिर से जोरों से चूसने लगा ...इस बार उसका पूरा मुँह खुला था और उसके मुँह से पूरा थूक और लार मेरे मुँह में जा रहा था ...सिंधु बूरी तरह कांप रही थी ...उसका पूरा शरीर मेरी बाहों में तड़प रहा था..उसका सीना बूरी तरह मेरे सीने पर धौंकनी के तरह लग रहा था ..उसकी एक चूची मैने अपने मुँह में ले ली और चूसने लगा ...सिंधु तड़प उठी ...उस ने उस चूची को अपने हाथों से दबाते हुए मेरे मुँह के और भी अंदर डाल दिया

" उफ़फ्फ़ भाई और चूसो ....अया देखो ना मेरी चूत .......अयाया ......."

मैने अपनी हाथ नीचे ले जाते हुए उसकी चूत को अपनी उंगलियों से हल्के से दबाया ...उफ़फ्फ़ पानी बह रहा था ..मैं जितना चूस्ता उसकी चूची ..उसकी चूत उतनी ही गीली होती ....

" भाई ..अब और ना तडपा .....देखो ना क्या हो रहा है मेरे को .....अयाया ..उउउहह ...मैं मर जाउन्गि .....अया अब देर मत करो ...."

मैने महसूस किया उसकी फुद्दि मेरी उंगलियों के बीच फडक रही थी ..काफ़ी रस निकल रहा था ..मैने एक उंगली अंडार डाली .....आसानी से अंदर चली गई ...इतनी गीली थी .....

मैने उंगली बाहर निकाली और चूस लिया .....मुझे चूस्ते देख सिंधु और भी पागल हो गयी ....उसकी टाँगे कांप रही थी ...

मैने देर करना ठीक नहीं समझा ..

मैं उसकी टाँगों के बीच आ गया ..घुटने के बल बैठ गया .अपना तन्नाया लौडा उसकी फुद्दि के बीच रखा और हाथ से पकड़ते हुए उपर नीचे करने लगा ..

और भी पानी निकला ..सिंधु के चूतड़ उछल गये ...उसकी फुद्दि की पंखूड़ियाँ कांप रही थी , थरथरा रही थी ..मानो कुछ अंदर लेने को बेताब ..

मैने अपने लंड को फिर से पकड़ा और उसके फुद्दि की संकरे से छेद पर लगाया और हल्के से दबाया ...इतनी गीली और टाइट थी ..फिसल कर उसकी जांघों पर लगा ....

सिंधु तड़प उठी ..." भाई डरो मत ज़ोर से डालो ना ....डालो ना .....ताक़त लगाओ...मेरी फिकर मत करो..भाई डालो ना ......."

मैं उसकी भूख और तड़प समझ रहा था

इस बार मैने लंड का सुपाडा उसकी फुद्दि पर रखा और थोड़ा ज़ोर लगाता हुआ अंदर डाला ..अपने चूतड़ का काफ़ी भार लंड पर डालते हुए ..

पक्क से सुपाडा अंदर गया ..मैं रुक गया ...उसकी फुद्दि फैल गयी थी मेरे सुपाडे से ..सुपाडा अंदर था .पर सिंधु की आँखें बंद थीं ..उसने अपने होंठ भींच लिए ..पर वाह रे बहेना ..मुँह से आवाज़ नहीं निकला

मैं थोड़ी देर वैसे ही लेटे रहा और उसको अपने सीने से चिपकाए रहा ..

" सिब्धु....दर्द हुआ क्या ....??"

" हां भाई पर ज़्यादा नहीं ..थोड़ा सा ..पर तुम कुछ सोचो मत ...अब और डालो ...पूरा डालो ना .....रुक क्यूँ गये ......आआआः "

अब मैने थोड़ा थूक अपनी उंगली में डाला और उसकी फुद्दि में मेरे लंड और उसकी फुद्दि के बीच लगा दिया और एक थोड़ा और ज़ोर का धक्का लगाया .....

इस बार मेरा आधा लंड अंदर था ....

"आआआआआआआआआआआआआआह ....ब्चेययाआयी....." सिंधु चीख पड़ी .... मैं फिर से रुका , उसकी चुचियाँ मसल्ने लगा ..उसे चूमने लगा ....उसके चेहरे पर दर्द कम होने की निशानी दिखी ..

अब मैने पूरे ज़ोर से फिर से लंड अंदर डाला ..पूरा लंड अंदर था ..पूरे का पूरा 8" .....

सिंधु की आँखों से आँसू निकल पड़े ..पर मुँह से कोई आवाज़ नहीं ....

मैं लंड अंदर डाले ही रहा और उस से चिपका रहा ...उसकी चूतड़ कांप रहे थे ...उसका पैर कांप रहा था .....और मैं उसे बेतहाशा चूमे जा रहा था ..

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 06 Dec 2014 07:50

वो बड़बड़ा रही थी " भाई फटने दो मेरी चूत..मेरी जान ले लो ..मैं तुम्हारा लौडा अंदर लिए मर जाऊंगी.....ऊवू .....तुम रूको मत ....चोदो ना और चोदो ना ....."

उसका दर्द कुछ और कम हुआ

अब मैने अपना लंड आधा ही बाहर निकाला और फिर से अंदर डाला ... और ऐसे ही अंदर बाहर करता रहा ..उफ्फ मुझे लगा जैसे मेरा लंड किसी ने बड़ी बूरी तरह जकड़ा हुआ है .... इतनी टाइट थी उसकी चूत ..बाहर निकालते वक़्त खून और पानी मिला जुला उसकी चूत से रीस रहा था

कुछ देर बाद दर्द की जगह उसे अब अच्छा लग रहा था ....." हां भाई अब अच्छा लग रहा है..."

अब मैने अपना लंड सुपाडे तक बाहर किया और फिर से पूरा अंदर डाला ..इस बार सिंधु कांप उठी ..उसका चूतड़ भी उछल पड़ा ....अब उसके मज़े का दौर और भी बढ़ता जा रहा था

मेरा लंड भी अपना रास्ता अंदर बना चूका था ,उसकी चूत अंदर बूरी तरह गीली थी

अब पूरी ज़ोर से चुदाई का खेल चालू था .....मुझे भी ऐसा महसूस हो रहा था मानो मेरा पूरा खून मेरे लंड मे आ रहा हो .

मैने उसकी चूतड़ के नीचे हाथ रखते हुए उसे उपर उठाया और फिर धक्के लगाता रहा ...हर धक्के में वो और उछालती और बड़बड़ाती जाती.." हां भाई ...ऊवू ....बस ऐसे ही करो..अयाया ...उुउऊः ..चोद लो ...चोद अपनी बहेन को ...फाड़ दो उसकी चूत ....आआआः ब्चेयेयेयाययियी ऊऊओह ..ये क्या हो रहा है ,........"

मुझे अपने लंड में उसकी चूत के झटके लगने शुरू हो गये .... उसका बदन अकड़ता हुआ महसूस हुआ ....मेरे लंड पर उसकी फुद्दि की पकड़ टाइट होती महसूस हुई और फिर सिंधु अपनी चूतड़ जोरों से उपर उछाली और ढीली पड़ कर पैर फैला मेरे नीचे पड़ गयी ....मैने उसकी चूत के रस की धार अपने लंड पे महसूस किया और मेरे लंड से भी पिचकारी छूट गयी ..मेरा सारा बदन मुझे खाली होता महसूस हुआ ..तीन चार झटकों के बाद मैं भी पस्त हो कर उसके उपर हांफता हुआ ढेर हो गया .

कुछ देर बाद मैने आँखें खोली ..देखा सिंधु बहुत थकि थकि नज़र आ रही थी ...

मैने उसे फिर से चिपकाया और उसे चूम लिया

"कैसा लगा सिंधु..बहुत दर्द हुआ ..???"

उस ने मेरे चेहरे को अपने हाथ से थामा और मुझे चूमते हुए कहा

"नहीं भाई ..जितना मैने सोचा था ना ..उसके हिसाब से तो कुछ भी नहीं था ....तुम ने कितने प्यार से किया भाई ..काश हर औरत को तेरे जैसा मर्द मिले पहली बार .....भाई तुम कितने अच्छे हो '...." और उसकी आँखों से आँसू टपक रहे थे .....खुशी और मस्ती से भरे आँसू थे वो ..अनमोल ..बेशक़ीमती ..

मैं उन्हें अपने होंठों से चाट लिया ...

फिर से हम दोनो एक दूसरे की बाहों में चिपके पड़े रहे...

थोड़ी देर बाद मुझे होश आआया ..मैं उठा ... सिंधु अभी भी आँखें बंद किए अपनी जवानी मेरे हवाले कर देने की खुमारी में थी शायद ... टाँग फैली हुई ..चूत के पास जांघों में खून और रस की पपड़ियाँ जमी ... नीचे बीछे तौलिए पर भी खून के धब्बे ...

" सिंधु ..चल उठ ..काफ़ी देर हो गयी है ..तू काम पे नहीं जाएगी...?"

उस ने आँखें खोली ..मुझे देखा और मुझे अपनी बाहों में भर लिया और अपने चेहरे से लगा चूम लिया

" उम्म्म्मम..भाई ...काम की तो आज ऐसी की तैसी...तुम ने तो मेरा काम तमाम कर दिया ....चल ना एक बार और करते हैं..?"

मैं सकते में आ गया ...

" अरे पागल है क्या ..? देख तो ज़रा अपनी फुददी , क्या हाल है....कितना सूज गया है ... अभी एक दो दिन कुछ नहीं ....समझी ...और अगर काम पर नहीं जाना तो बस आराम कर ..मुझे तो जाना ही पड़ेगा .. एक साहेब की गाड़ी अर्जेंट धोनी है .."

"ठीक है बाबा ठीक ..."

और वो बिस्तर से उठने लगी ... चलने को आगे बढ़ी..चाल में थोड़ी लड़खड़ाहट थी ...

" सिंधु ..अभी भी दर्द है क्या ..? " मैने उसे उसकी कमर से थामता हुआ बोला...

उसकी नज़र नीचे बिछे तौलिए पर पड़ी ...उसमें खून के धब्बे देख उसकी आँखें चौड़ी हो गयीं ....

" भाई...कितना खून निकाल दिया तुम ने ..तुम बहुत गंदे हो .... " और शरमाते हुए मुझ से लिपट गयी ...

" वाह रे सिंधु ...जब खून निकला तो बड़े मज़े में थी ..और अब मैं गंदा हो गया ..."

वो मेरे सीने पर हल्के हल्के मुक्के लगाते हुए बोली " हां तुम गंदे हो..गंदे हो .... " और मुझ से फिर से लिपट गयी और फिर कहा " भाई सच कहूँ तो मेरी किस्मत है तुम्ही ने मेरा खून बहाया .किसी और ने नहीं ....हमारा रिश्ता भी तो खून का है ना ... ऐसे में एक दूसरे को खून की कीमत अच्छे से मालूम होती है....इसी वजेह इतना कम खून बहाया तुम ने ....है ना ? और वो भी बिना ज़्यादा तकलीफ़ के .."

मैने भी उसके माथे को चूम लिया ... " हां सिंधु ठीक कहती है तू ..चल अब आराम कर ..मैं हाथ मुँह धो कर जाता हूँ...शाम तक वापस आ जाउन्गा ..."

मैं फ़ौरन उठा , और कोने में पड़ी बाल्टी के पानी से अच्छे से हाथ , पैर और मुँह धो कर कपड़े पहने और सिंधु को गले लगाया , उसे चूमा और बाहर निकल गया..

अपना दिन का खाना बोलो या लंच बोलो या फिर जो भी समझ लो..ज़्यादेतर बाहर ही होता ... जिस बिल्डिंग में कारों की धुलाई करता उसके पास ही एक ठेलेवाला गरमा गरम पाव भाजी देता ...बस वोई अपना लंच होता ... उस दिन भी कार धुलाई के बाद लंच किया ..इधर उधर घूमा ..कुछ दोस्तों के साथ गप्प सदाका और करीब 3 बजे घर वापस आया ...

दरवाज़ा अंदर से बंद था ..शायद तीनों खाना वाना खा कर सो रहे थे ..थोड़ी देर खटखटाने के बाद मा ने दरवाज़ा खोला ...अंदर देखा तो दोनो बहेनें नीचे बिस्तर पर सो रही थीं ...मा भी शायद नींद से जागी थी दरवाज़ा खोलने के लिए....

अंदर आते ही मा ने दरवाज़ा बंद कर दिया और मुझ से पूछा.." खाना खा लिया जग्गू..?? "

" हां मा खा लिया ....तू ने खाया ..??"

" हां बेटा ....जा तू भी थोड़ा आराम कर ले .थक गया होगा ..मैं भी लेट ती हूँ .. तू खाट पर लेट जा ...आज से तू उसी पर सोना ..." और फिर वो अपनी बेटियों के साथ नीचे लेट गयी ...

मैं मुँह धो कर खाट पर लेट गया ...मेरी खाट से बिल्कुल लगे नीचे मा थी .उसके बगल में बिंदु और फिर सब से किनारे सिंधु...

मैं लेटा लेटा सिंधु के बारे सोच रहा था .. ... पर जैसा भी हाल हो अभी तो गहरी नींद में थी....मतलब कोई तकलीफ़ नहीं ....चेहरे पे सुकून था ...

पर मा लेटी तो थी ..पर करवटें ले रही थी ...कुछ बेचैनी थी उसके चेहरे पर...बाल बीखरे थे ..छाती से आँचल नीचे गीरा था ..उसकी भारी भारी चुचियाँ उसकी टाइट ब्लाउस के अंदर उसकी सांस के साथ उपर नीचे हो रही थी ...मैं एक टक उन्हें देख रहा था ..ब्लाउस कुछ ज़्यादा ही छोटी थी ...आँचल नीचे होने की वाज़ेह से पेट बिल्कुल नंगा था... मा का पेट बिल्कुल सपाट था ..ज़रा भी चर्बी नहीं ..पर भरा भरा था ...अभी वो सीधा लेटी थी .....मैं उसे निहारे जा रहा था ...उसके नंगे पेट , नाभि के छेद और भारी भारी चूचिया ..उफफफफ्फ़ मैं पागल हो गया था ..उसका सीधा असर हुआ मेरे लंड पर ... पॅंट फाड़ बाहर आने को तैय्यार ..काफ़ी उभरा उभरा था ..मेरा एक हाथ मेरे सर के नीचे था और दूसरे हाथ से मैं अपना लंड सहला रहा था ...

तभी मा ने मेरी तरफ करवट ली और उसकी नज़र मेरी हालत पर पड़ी ....

मैं तो उसी की तरफ देख रहा था ....उसकी नज़र मेरी नज़र से मिली..मैं झेन्प्ता हुआ अपनी नज़र नीचे कर ली और अपना हाथ अपने लंड से हटा लिया....हाथ तो हट गया ...पर लंड खड़ा ही था ...पर धीरे धीरे मेरी झेंप के साथ सिकुड़ता गया ....

मा की नज़र उसी तरह मेरी ओर थी ..उसके चेहरे पे कोई भाव नहीं था ..बस एक टक मुझे देखती जा रही थी ..एक टक ..

मैं सकते में था ..पता नहीं क्या हो गया मा को ....

वो चुप चाप बिना कोई आहट किए मेरे बगल खाट पर बैठ गयी ..और मेरे सर पर हाथ सहलाने लगी ....

मैं बहुत घबडाया सा था ... उसके इस तरह से मेरे सर पर हाथ फेरने से मैं और भी भौंचक्का सा हो गया था ....जैसा मैं सोच रहा था के शायद झिड़की सुन ने को मिलेगी..पर यहाँ तो बात ही कुछ और थी ..मेरी समझ से बिल्कुल अलग ...

फिर उस ने कहा

" बेटा घबरा मत ..मैं तेरे को कुछ नहीं बोलती....तू भी अब जवान हो गया है ...और रोज तीन तीन जवान औरतों के साथ सोता है ....मजबूरी है ..पर अभी तक तू ने बाहर कुछ भी नहीं किया ..मैं जानती हूँ ..तेरे उपर मोहल्ले की औरतें जान देती हैं ..ये भी मैं जानती हूँ ...और तेरा मन हम तीनों पर लगा है ..ये भी मैं देख रही हूँ बेटा ....देख ना इतना पैसा भी नहीं के मैं तेरी या तेरी बहनो की शादी कर सकू ..तेरे बाप ने शराब पर सारा पैसा लूटा दिया .... मैं क्या करूँ ..तेरे लौडे और बिंदु और सिंधु की चूतो की प्यास बूझाने का मेरे पास कोई रास्ता नहीं .....कोई रास्ता नहीं .." और वो अपना मुँह फेरे रोने लगी सिसक सिसक कर रो रही थी....

मा के बिल्कुल बेबाक और बेधड़क लफ़्ज़ों में एक मा की मजबूरी और लाचारी का गुस्सा झलक रहा था ... और अपने बेटे के सामने ऐसी बातें करना बता रहा था कि उसे अपने बेटे पर कितना भरोसा था .....

मैने अपनी मा के भरोसे को सहारा बनाता हुआ अपनी मा के चेहरे को अपनी तरफ किया और कहा

" मा ..रो मत ..मत रो मा .....जिस चीज़ के लिए तू बोल रही है ना तेरे पास रास्ता नहीं ..तो मेरे पर भरोसा रख और ग़लत मत समझ ...उसका रास्ता है मा ...इलाज़ है ...."

क्रमशः…………………………………………..